This site for your education.

The New Sites

Any query

thenewsites20@gmail.com

Happiness is the highest level of success.

Financial Report for Panchayats: RBI ने पंचायतों के लिए वित्तीय रिपोर्ट जारी की, पश्चिम बंगाल खर्च में सबसे ऊपर, गुजरात किफायती

Financial Report for Panchayats: भारतीय रिज़र्व बैंक की पंचायती राज फाइनेंस रिपोर्ट

  • 24 जनवरी को, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 2022–2023 की ‘पंचायती राज संस्थाओं का वित्त’ रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम बंगाल एक पंचायत पर14 लाख रुपए खर्च कर रहा है, जबकि गुजरात महज 3.34 लाख रुपए खर्च कर रहा है।
  • वर्ष 2022–2023 में मध्य प्रदेश ने92 लाख रुपये खर्च किए।
  • बिहार में प्रति पंचायत औसतन 63 हजार रुपये खर्च हुए।
  • देश की 2 लाख 55 हजार 623 ग्राम पंचायतों को राजस्व केंद्रों और राज्य सरकारों से 95% से अधिक अनुदान मिलता है।
  • स्थानीय कर और अन्य शुल्क देश की पंचायतों को महज1% का राजस्व दे सकते हैं।
  • इसके अलावा, गैर-कर राजस्व और ब्याज से लगभग3% मिलता है।
  • राजस्थान और मध्य प्रदेश की पंचायतें पूरी तरह से केंद्रीय और राज्य सरकारों से मिलने वाले धन पर निर्भर हैं।
  • आंध्र प्रदेश की पंचायतें टैक्स और ब्याज पर 92 प्रतिशत खर्च करती हैं, जबकि राज्य और केंद्र से केवल 8 प्रतिशत धन मिलता है।
  • महाराष्ट्र की पंचायत का 26 प्रतिशत खर्च खुद के टैक्स और ब्याज से आता है।
  • पिछले कुछ वर्षों में, सभी पंचायतों ने साफ पानी की आपूर्ति और स्वच्छता पर अधिक ध्यान दिया है।
  • पंचायती राज कार्यक्रमों पर 46 प्रतिशत और परिवहन सुविधाओं पर 45 प्रतिशत खर्च हुए हैं।
Financial Report for Panchayats
Financial Report for Panchayats

ये भी पढ़ें: GI Tag: Arunachal Pradesh के उत्पादों को GI टैग मिला

MCQs:

1. वर्ष 2022-23 के लिए पंचायत वित्त पर आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार, कौन सा राज्य प्रति पंचायत सबसे अधिक राशि खर्च कर रहा है, और वह कितना खर्च कर रहा है?

  1. गुजरात – ₹3.34 लाख
  2. पश्चिम बंगाल – ₹25.14 लाख
  3. मध्य प्रदेश – ₹3.92 लाख
  4. बिहार – ₹63,000

उत्तर: B) पश्चिम बंगाल – ₹25.14 लाख

स्पष्टीकरण: आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम बंगाल प्रति पंचायत ₹25.14 लाख खर्च कर रहा है।

2. वित्तीय वर्ष 2022-23 में बिहार में प्रति पंचायत औसत व्यय कितना था?

  1. ₹25.14 लाख
  2.  ₹3.34 लाख
  3.  ₹3.92 लाख
  4.  ₹63,000

उत्तर: D) ₹63,000

स्पष्टीकरण: वित्तीय वर्ष 2022-23 के दौरान बिहार में प्रति पंचायत औसत व्यय ₹63,000 था।

3. जैसा कि आरबीआई की रिपोर्ट में बताया गया है, भारत में 2,55,623 ग्राम पंचायतों के कुल राजस्व का 95% से अधिक कहाँ से आता है?

  1. स्थानीय कर और शुल्क
  2. केंद्र और राज्य सरकार अनुदान
  3. गैर-कर राजस्व
  4. अंतर्राष्ट्रीय सहायता

उत्तर: B) केंद्र और राज्य सरकार अनुदान

स्पष्टीकरण: भारतीय पंचायतों का 95% से अधिक राजस्व केंद्र और राज्य सरकारों से अनुदान के रूप में आता है।

4. भारत में पंचायतें अपने राजस्व का कितना प्रतिशत स्थानीय करों और अन्य शुल्कों से उत्पन्न करती हैं?

  1. 1.1%
  2. 3.3%
  3.  26%
  4. 46%

उत्तर: A) 1.1%

स्पष्टीकरण: भारतीय पंचायतें स्थानीय करों और अन्य शुल्कों के माध्यम से अपने राजस्व का केवल 1.1% उत्पन्न करती हैं।

5. रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश और राजस्थान में पंचायतें केंद्र और राज्य सरकार से मिलने वाली फंडिंग पर कितनी निर्भर हैं?

  1.  आंशिक निर्भरता
  2.  कोई निर्भरता नहीं
  3. पूर्ण निर्भरता
  4. सीमित निर्भरता

उत्तर: C) पूर्ण निर्भरता

स्पष्टीकरण: मध्य प्रदेश और राजस्थान में पंचायतें पूरी तरह से केंद्र और राज्य सरकारों के वित्त पोषण पर निर्भर बताई गई हैं।

6. जैसा कि रिपोर्ट में बताया गया है, आंध्र प्रदेश में पंचायतों के लिए राजस्व का प्राथमिक स्रोत क्या है?

  1. केंद्र और राज्य सरकारों से अनुदान
  2. स्थानीय कर और शुल्क
  3. गैर-कर राजस्व
  4. अंतर्राष्ट्रीय सहायता

उत्तर: B) स्थानीय कर और शुल्क

स्पष्टीकरण: आंध्र प्रदेश में पंचायतें मुख्य रूप से स्थानीय करों और शुल्कों पर निर्भर हैं, जो उनके खर्च में 92% का योगदान करते हैं।

7. महाराष्ट्र की पंचायतें अपने स्व-उत्पन्न राजस्व से कितना प्रतिशत व्यय पूरा कर रही हैं?

  1. 8%
  2. 26%
  3. 45%
  4. 92%

उत्तर: A) 8%

स्पष्टीकरण: महाराष्ट्र की पंचायतें अपने व्यय का 8% कर और शुल्क सहित स्व-उत्पन्न राजस्व के माध्यम से कवर कर रही हैं।

8. रिपोर्ट के अनुसार, वे दो मुख्य क्षेत्र कौन से हैं जहाँ पंचायतों ने अपने व्यय को पंचायती राज कार्यक्रमों के माध्यम से निर्देशित किया है?

  1. स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा
  2. बुनियादी ढांचे का विकास और कृषि
  3. जल आपूर्ति और स्वच्छता
  4. खेल और सांस्कृतिक गतिविधियाँ

उत्तर: सी) जल आपूर्ति और स्वच्छता

स्पष्टीकरण: पंचायतों ने पंचायती राज कार्यक्रमों के माध्यम से अपने व्यय को मुख्य रूप से जल आपूर्ति और स्वच्छता (46%) और परिवहन सुविधाओं (45%) पर केंद्रित किया है।

9. आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार हाल के वर्षों के दौरान पंचायतों में व्यय का मुख्य फोकस क्या रहा है?

  1. स्वास्थ्य सेवा
  2.  बुनियादी ढांचे का विकास
  3. पेयजल आपूर्ति
  4. शिक्षा

उत्तर: C. पेयजल आपूर्ति

स्पष्टीकरण: हाल के वर्षों में पंचायतों ने पेयजल आपूर्ति और स्वच्छता पर खर्च को प्राथमिकता दी है।

10. पंचायती राज व्यवस्था के माध्यम से पंचायत कार्यक्रमों को कितना प्रतिशत धन आवंटित किया गया है?

  1. 20%
  2. 35%
  3. 46%
  4.  60%

उत्तर: C) 46%

स्पष्टीकरण: आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार, पंचायतों ने अपने धन का 46% हिस्सा पंचायती राज कार्यक्रमों के माध्यम से निर्देशित किया है।

11. स्थानीय करों और अन्य शुल्कों के अलावा, अन्य कौन सा स्रोत है जिसके माध्यम से पंचायतें लगभग 3.3% आय अर्जित करती हैं?

  1. केंद्र सरकार से अनुदान
  2. ब्याज
  3. कॉर्पोरेट प्रायोजन
  4. दान

उत्तर: B) ब्याज

12. रिपोर्ट के अनुसार कौन से राज्य अपने पंचायत व्यय के लिए पूरी तरह से केंद्र और राज्य सरकारों के धन पर निर्भर हैं?

  1. आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र
  2. मध्य प्रदेश और राजस्थान
  3. बिहार और गुजरात
  4. पश्चिम बंगाल और कर्नाटक

उत्तर: B) मध्य प्रदेश और राजस्थान

13. रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्षों के दौरान सभी राज्यों में पंचायतों की मुख्य प्राथमिकता क्या है?

  1. शिक्षा
  2.  स्वास्थ्य देखभाल
  3. स्वच्छ जल आपूर्ति
  4. बुनियादी ढांचे का विकास

उत्तर: C) स्वच्छ जल आपूर्ति

14. रिपोर्ट के अनुसार, व्यय का कितना प्रतिशत पंचायती राज कार्यक्रमों के लिए आवंटित किया गया है, और कितना प्रतिशत परिवहन सुविधाओं के लिए आवंटित किया गया है?

  1. 46% और 45%
  2.  26% और 8%
  3.  92% और 3.3%
  4. 63% और 26%

उत्तर: A) 46% और 45%

(Source: AIR News, PIB News, DD News, BBC News, Bhaskar News)

Read more…..

Daily Current Affairs Quiz in Hindi 27 Jan 2024; डेली करंट अफेयर्स क्विज़ेज इन हिंदी

FAQs:

  1. पंचायती राज फाइनेंस रिपोर्ट क्या है?

    उत्तर: पंचायती राज फाइनेंस रिपोर्ट भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी की गई है, जो 2022–2023 के विभिन्न पंचायती राज संस्थाओं के वित्त स्थिति पर आधारित है।

  2. राज्यों के बीच धन साझा कैसे हो रहा है?

    उत्तर: राजस्थान और मध्य प्रदेश की पंचायतें पूरी तरह से केंद्रीय और राज्य सरकारों से मिलने वाले धन पर निर्भर हैं। आंध्र प्रदेश की पंचायतें टैक्स और ब्याज पर 92 प्रतिशत खर्च करती हैं, जबकि राज्य और केंद्र से केवल 8 प्रतिशत धन मिलता है। महाराष्ट्र की पंचायत का 26 प्रतिशत खर्च खुद के टैक्स और ब्याज से आता है।

  3. पंचायतों को आने वाले धन का स्रोत क्या है?

    उत्तर: रिपोर्ट के अनुसार, देश की 2 लाख 55 हजार 623 ग्राम पंचायतों को राजस्व केंद्रों और राज्य सरकारों से 95% से अधिक अनुदान मिलता है। स्थानीय कर और अन्य शुल्क महज 1.1% का राजस्व दे सकते हैं, और गैर-कर राजस्व और ब्याज से लगभग 3.3% मिलता है।

  4. किस प्रकार के खर्च में विभिन्न राज्यों में विभाजित है?

    उत्तर: रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम बंगाल एक पंचायत पर 25.14 लाख रुपए खर्च कर रहा है, जबकि गुजरात महज 3.34 लाख रुपए खर्च कर रहा है। मध्य प्रदेश ने वर्ष 2022–2023 में 3.92 लाख रुपये खर्च किए हैं। बिहार में प्रति पंचायत औसतन 63 हजार रुपये खर्च हुए हैं।

error: Content is protected !!
झारखंड में 4919 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती DSSSB ने TGT में 5118 रिक्त पदों पर भर्ती निकाली नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया में निकली भर्ती MP पावर जनरेटिंग कंपनी में अप्रेंटिस वैकेंसी जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन में स्केल I ऑफिसर की वैकेंसी
झारखंड में 4919 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती DSSSB ने TGT में 5118 रिक्त पदों पर भर्ती निकाली नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया में निकली भर्ती MP पावर जनरेटिंग कंपनी में अप्रेंटिस वैकेंसी जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन में स्केल I ऑफिसर की वैकेंसी