The New Sites

UNCCD Report: 10 मिलियन वर्ग किलोमीटर भूमि का लुप्त होना एक गंभीर समस्या

UNCCD Report: आर्थिक और पर्यावरणीय प्रभाव को समझना

एक चिंताजनक रहस्य खोज में, वायुजनित धूल और रेत की घुसपैठ के कारण हर साल लगभग 10 मिलियन वर्ग किलोमीटर उपजाऊ भूमि नष्ट हो रही है, जिससे वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण आर्थिक और पर्यावरणीय प्रभाव पड़ रहे हैं। यह रहस्योद्घाटन संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन रिपोर्ट (UNCCD Report) से हुआ है।

धूल और रेत का ख़तरा: एक बढ़ता हुआ वैश्विक मुद्दा

धूल और रेत का ख़तरा: एक बढ़ता हुआ वैश्विक मुद्दा
धूल और रेत का ख़तरा: एक बढ़ता हुआ वैश्विक मुद्दा

UNCCD Report के अनुसार, हर साल आश्चर्यजनक रूप से 200 मिलियन टन धूल और रेत हमारे पर्यावरण में प्रवेश करती है। परिणाम गंभीर हैं, हर साल लगभग 10 मिलियन वर्ग किलोमीटर कृषि योग्य भूमि नष्ट हो जाती है, जो गीज़ा के 350 महान पिरामिडों के वजन के बराबर है। रिपोर्ट लगभग 25% धूल और रेत से भरे तूफानों के लिए मानवीय गतिविधियों को जिम्मेदार ठहराती है, जिसमें अत्यधिक खनन, अनियमित कृषि पद्धतियां, वनों की कटाई के कारण निवास स्थान का विनाश और जल संसाधनों की तेजी से कमी शामिल है।

वैश्विक स्तर पर आर्थिक प्रभाव

UNCCD ने चेतावनी दी है कि धूल और रेत से भरे तूफानों का प्रभाव भूमि उत्पादकता में कमी से कहीं अधिक है। वैश्विक अर्थव्यवस्था इस पर्यावरणीय संकट का खामियाजा भुगत रही है, जैसा कि हाल ही में उज्बेकिस्तान के समरकंद में पांच दिवसीय UNCCD सम्मेलन के दौरान चर्चा की गई थी। 13 से 17 नवंबर, 2023 तक आयोजित सम्मेलन का प्राथमिक उद्देश्य दुनिया भर में भूमि क्षरण को उलटने में हालिया प्रगति का आकलन करना था।

स्वास्थ्य संबंधी खतरे: एक मंडराता खतरा

हवा में उड़ने वाली धूल मनुष्यों के लिए गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा करती है। 10 माइक्रोमीटर से बड़े कण सांस लेने के लिए अनुपयुक्त होते हैं, जिससे त्वचा और आंखों में जलन होती है, साथ ही श्वसन संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया, एलर्जिक राइनाइटिस और सिलिकोसिस जैसी स्थितियां इन वायु प्रदूषकों के लंबे समय तक संपर्क से जुड़ी हैं।

भूमि विनाश: एक गंभीर वास्तविकता

UNCCD Report डेटा के विश्लेषण से पता चलता है कि 2015 के बाद से वैश्विक स्तर पर लगभग 42 लाख वर्ग किलोमीटर भूमि खो गई है, जो पांच प्रमुख एशियाई देशों के कुल भूमि क्षेत्र के बराबर है। अकेले भारत ही इसके दुष्परिणामों से जूझ रहा है, 500 मिलियन से अधिक लोग धूल भरी आंधियों के प्रतिकूल प्रभावों के कारण स्वास्थ्य और आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

कार्रवाई के लिए तत्काल कॉल

UNCCD के कार्यकारी सचिव इब्राहिम थियाव इस बात पर जोर देते हैं कि धूल और रेत के विशाल बादलों द्वारा दिन को रात में बदलना प्रकृति के सबसे खतरनाक दृश्यों में से एक है। उत्तरी और मध्य एशिया से लेकर उप-सहारा अफ्रीका तक के क्षेत्रों को प्रभावित करने वाली ये घटनाएं तत्काल ध्यान देने और उनके प्रभाव को कम करने के लिए ठोस अंतरराष्ट्रीय प्रयासों की मांग करती हैं। थियाव का आग्रह है कि ठोस मानवीय प्रयासों से इन विनाशकारी दृश्यों को रोका जा सकता है।

लुप्त हो रही कृषि योग्य भूमि का मौन संकट मूल कारणों को संबोधित करने और अपरिवर्तनीय क्षति होने से पहले स्थायी समाधान खोजने में वैश्विक सहयोग के लिए कार्रवाई का आह्वान है। जैसे-जैसे दुनिया इस पर्यावरणीय खतरे से निपटने के लिए एकजुट हो रही है, आशा है कि खोई हुई भूमि को पुनः प्राप्त किया जाएगा और आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ भविष्य सुरक्षित किया जाएगा।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
fb-share-icon20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Advantages of overseas domestic helper.