Hajj Agreement 2024: भारत और सऊदी अरब ने जद्दाह में द्विपक्षीय हज समझौते पर हस्ताक्षर किए

Hajj Agreement 2024: भारत और सऊदी अरब ने आपसी संबंधो को मजबूत करते हुए और हज यात्रियों की सुविधा को प्राथमिकता देते हुए, द्विपक्षीय हज समझौते, 2024 पर हस्ताक्षर किए हैं। इस महत्वपूर्ण समझौते में केंद्रीय मंत्री स्मृति जूबिन ईरानी और सऊदी अरब के हज और उमराह मंत्री डॉक्टर तौफिक-बिन-फौजान-अल-रबियाह ने समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस महत्वपूर्ण क्षण में केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन भी उपस्थित थे।

यह समझौता दो देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के साथ-साथ पुरूष अभिभावक-मेहरम के बिना हज में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने के तौर पर भी महत्वपूर्ण तथ्यों को रेखांकित करता है। समझौते में, दोनों देशों ने समावेशण और आपसी सम्मान को बढ़ाने के लिए कदम उठाने का आदान-प्रदान किया है, जिससे भारतीय जायरीन की हज यात्रा में सुधार होगा।

महत्वपूर्ण पहलुओं की चर्चा

इस समझौते ने भारत की प्रतिबद्धता को दर्शाया है, और महिलाओं को हज में भाग लेने के लिए नए तरीकों की बढ़ती रूचि को प्रोत्साहित किया है। यह समझौता न केवल दोनों देशों के बीच सामाजिक समझौते को मजबूती प्रदान करता है, बल्कि भारतीय जायरीन की सुरक्षित और सुचारू हज यात्रा को सुनिश्चित करने में भी मदद करेगा।

ये भी पढ़ें: Prasadam Food Street: उज्जैन में ‘प्रसादम’ फूड स्ट्रीट का उद्घाटन, देश की पहली स्वस्थ और स्वच्छ खाद्य देने वाली स्ट्रीट

डिजिटल पहल की सराहना

समझौते के एक पहलू में, स्मृति जूबिन ईरानी ने सांविदानिक रूप से सऊदी अरब के शिष्टमंडल की डिजिटल पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के शिष्टमंडल ने हज यात्रियों को आवश्यक जानकारी मुहैया कराने के लिए अंतिम समय में चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने की व्यवस्था की, जिससे यात्री सुरक्षित रूप से यात्रा कर सकें।

चिकित्सा सुविधाएं और आपसी सम्मान

समझौते में दोनों देशों ने हज यात्रियों के लिए चिकित्सा सुविधाओं में बढ़ोतरी किए जाने के महत्व को स्वीकार किया है। यह समझौता न केवल सामाजिक और सांस्कृतिक मौद्रिक संबंधों को मजबूती प्रदान करेगा, बल्कि हज यात्रियों को सुरक्षित रूप से यात्रा करने के लिए एक और कदम होगा।

ये भी पढ़ें: Solar Satellite Aditya L-1: ISRO ने रचा एक और इतिहास, भारत का पहला सौर उपग्रह, आदित्य एल-1, अंतिम कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित

उद्घाटन समारोह

श्रीमती ईरानी कल जद्दाह में तीसरे हज और उमराह सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में भाग लेंगी। भारतीय शिष्टमंडल का भारतवंशियों और व्यापारिक समुदाय से भेंट का भी कार्यक्रम है। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सऊदी अरब के दो दिन के दौरे पर हैं और दोनों देशों के बीच सहयोग और समर्थन की बढ़ती दिशा को साकारात्मक रूप से देख रही हैं।

इस द्विपक्षीय हज समझौते ने भारत और सऊदी अरब के बीच संबंधों को नए उच्चायों तक पहुंचाने में मदद करने का वादा किया है। यह महत्वपूर्ण कदम सामाजिक समझौते और सहयोग की दिशा में है और हज यात्रियों के लिए सुरक्षित और सुचारू यात्रा सुनिश्चित करने का एक महत्वपूर्ण प्रमाण है।

ये भी पढ़ें: One Nation One Election: ऐतिहासिक कदम, पूर्व राष्ट्रपति ने ‘एक राष्ट्र एक चुनाव’ के लिए क्रांतिकारी अभियान का नेतृत्व किया – लोगों की आवाज़ें चाहिए

सामान्य प्रश्न (FAQs) हज समझौते 2024 के बारे में

  1. प्रश्न: हज समझौते में क्या महत्वपूर्ण परिवर्तन हुआ है?

    उत्तर: हज समझौते में, भारत और सऊदी अरब ने आपसी संबंधों को मजबूत करने के साथ-साथ हज यात्रियों की सुविधा को प्राथमिकता देने के लिए द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

  2. प्रश्न: कौन-कौन से महत्वपूर्ण विकल्पों पर गौर किया गया है, जो हज में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ा सकते हैं?

    उत्तर: हज समझौतेमें, पुरूष अभिभावक-मेहरम के बिना हज में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने के लिए नए तरीकों पर विचार किया गया है।

  3. प्रश्न: हज समझौते में चिकित्सा सुविधाएं और आपसी सम्मान में कैसे सुधार हुआ है?

    उत्तर: हज समझौते में दोनों देशों ने हज यात्रियों के लिए चिकित्सा सुविधाओं में बढ़ोतरी की गई है और साथ ही आपसी सम्मान को बढ़ाने के लिए कदम उठाया है।

  4. प्रश्न: कौन-कौन से आयोजन और कार्यक्रम हैं जो हज समझौते के संदर्भ में हो रहे हैं?

    उत्तर: श्रीमती ईरानी कल जद्दाह में तीसरे हज और उमराह सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में भाग लेंगी, जिसमें भारतीय शिष्टमंडल का भारतवंशियों और व्यापारिक समुदाय से भेंट का भी कार्यक्रम है।

  5. प्रश्न: क्या है भारत और सऊदी अरब के बीच हज समझौते का महत्व?

    उत्तर: हज समझौते ने दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत किया है और हज यात्रियों के लिए सुरक्षित और सुचारू यात्रा को सुनिश्चित करने का वादा किया है।

  6. प्रश्न: कौन-कौन सी पहलुएं हैं जो इस हज समझौते में हासिल की गई हैं?

    उत्तर: समझौते में सामाजिक समझौते, पुरूष अभिभावक-मेहरम के बिना हज में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने के साथ-साथ चिकित्सा सुविधाएं में बढ़ोतरी और आपसी सम्मान को बढ़ाने का कदम शामिल हैं।

  7. प्रश्न: कैसे समझौता हज यात्रीओं को सुरक्षित रूप से यात्रा करने में मदद करेगा?

    उत्तर: समझौता चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ यात्रीओं को आवश्यक जानकारी मुहैया कराने के लिए शिष्टमंडल की डिजिटल पहल की सराहना करता है।

  8. प्रश्न: कैसे हज समझौते से हज यात्रा में सुधार होगा?

    उत्तर: हज समझौते ने दोनों देशों के बीच सहयोग और समर्थन की दिशा में है और हज यात्रियों के लिए सुरक्षित और सुचारू यात्रा सुनिश्चित करने में मदद करेगा।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Link. Vtc. On san diego food festivals.