स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव: डॉ. मनसुख मंडाविया ने दिल्ली में रोबोटिक यूनिट का उद्घाटन किया

मनसुख मांडविया ने दिल्ली में तीन सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों का किया उद्घाटन

आज, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने दिल्ली के अलकनंदा, रोहिणी सेक्टर-16, और वसंत विहार में तीन सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों का उद्घाटन किया। इस मौके पर डॉ. मांडविया ने राष्ट्रीय क्षय रोग और श्वसन रोग संस्थान में एक रोबोटिक यूनिट का भी उद्घाटन किया, जो स्वास्थ्य सेवाओं में नई योजनाओं का संकेत है।

डॉ. मांडविया ने इस अवसर पर एक भाषण में कहा, “ये तीन केंद्र उन 341 केंद्रों के अतिरिक्त हैं जो पहले से ही 44 लाख लाभार्थियों को सेवा प्रदान कर रहे हैं। वेलनेस सेंटर और रोबोटिक यूनिट स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूती से बढ़ावा देंगे।”

सरकारी सुधारों से सीजीएचएस कवर के गहराईयों में वृद्धि

डॉ. मांडविया ने बताया कि सरकार द्वारा किए गए सुधारों के कारण सीजीएचएस के तहत कवर किए गए शहरों की संख्या 2014 में 40 से बढ़कर अब 80 हो गई है। उन्होंने कहा, “ये केंद्र जल्द ही भारत के 100 शहरों तक पहुंच जाएंगे, जिससे सीजीएचएस लाभार्थी अपने निवास के निकटतम स्थल पर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे।”

रोबोटिक यूनिट का महत्व

डॉ. मांडविया ने रोबोटिक यूनिट के महत्व को बताते हुए कहा, “रोबोटिक सर्जरी तपेदिक से पीड़ित रोगियों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं सुनिश्चित करने में सहायक होगी। सरकार ने लाभार्थियों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंचने में सक्षम बनाने के लिए सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में सीजीएचएस पैकेज की पैकेज दरों को संशोधित किया है।”

उन्होंने इस बारे में जोर दिया कि भारत में एक लाख साठ हजार से अधिक आयुष्मान आरोग्य मंदिर स्थापित किए गए हैं, जो जनता को समग्र उपचार प्रदान कर रहे हैं।

नए योजनाओं से लाभार्थियों को होगा बेहतर स्वास्थ्य सुरक्षा

इस अद्भूत पहल के माध्यम से सरकार ने लक्ष्य रखा है कि सीजीएचएस लाभार्थी अपने निवास के निकटतम स्थल पर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकें। नई योजनाएं और रोबोटिक सुविधाएं सुनिश्चित करेंगी कि रोगियों को मिले उच्चतम स्तर की देखभाल और सुरक्षा।

इसी मौके पर सीजीएचएस आरोग्य केंद्रों के महत्वपूर्ण योगदान के बारे में डॉ. मांडविया ने कहा, “ये केंद्र भारत में स्वास्थ्य सेवाओं को पुनर्निर्माण करेंगे और नए विकास की दिशा में कदम उठाएंगे।”

Also read: World Test Championship 2023-25: भारत ने दक्षिण अफ्रीका को हराकर बनाया इतिहास, विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप 2023-25 में शीर्ष पर पहुंचा

इस उद्घाटन समारोह में डॉ. मनसुख मांडविया के साथ उपस्थित रहे लोगों ने उनके कदमों की सराहना की और सरकार के इस कदम से जनता को होने वाले लाभों का समर्थन किया।

यह पहल भारतीय समाज के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है, जिससे स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में नए सुधार और विकास की दिशा में एक नया मील का पत्थर रखा गया है।

FAQs:

कैसे हुआ उद्घाटन?

आज, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने दिल्ली के अलकनंदा, रोहिणी सेक्टर-16, और वसंत विहार में तीन सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों का उद्घाटन किया।

और क्या उद्घाटन हुआ?

इस मौके पर डॉ. मांडविया ने राष्ट्रीय क्षय रोग और श्वसन रोग संस्थान में एक रोबोटिक यूनिट का भी उद्घाटन किया, जो स्वास्थ्य सेवाओं में नई योजनाओं का संकेत है।

उद्घाटन के मौके पर क्या कहा गया?

डॉ. मांडविया ने एक भाषण में कहा, “ये तीन केंद्र उन 341 केंद्रों के अतिरिक्त हैं जो पहले से ही 44 लाख लाभार्थियों को सेवा प्रदान कर रहे हैं। वेलनेस सेंटर और रोबोटिक यूनिट स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूती से बढ़ावा देंगे।”

सीजीएचएस कवर में कैसे हुई वृद्धि?

डॉ. मांडविया ने बताया कि सरकार द्वारा किए गए सुधारों के कारण सीजीएचएस के तहत कवर किए गए शहरों की संख्या 2014 में 40 से बढ़कर अब 80 हो गई है।

रोबोटिक यूनिट का महत्व क्या है?

डॉ. मांडविया ने रोबोटिक यूनिट के महत्व को बताते हुए कहा, “रोबोटिक सर्जरी तपेदिक से पीड़ित रोगियों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं सुनिश्चित करने में सहायक होगी।”

नए योजनाओं के साथ लाभार्थियों को कैसा होगा बेहतर स्वास्थ्य सुरक्षा?

इस अद्भूत पहल के माध्यम से सरकार ने लक्ष्य रखा है कि सीजीएचएस लाभार्थी अपने निवास के निकटतम स्थल पर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकें।

समाप्त में, कैसे दिखा जा रहा है यह उद्घाटन?

उद्घाटन समारोह में डॉ. मनसुख मांडविया के साथ उपस्थित लोगों ने इस कदम की सराहना की और सरकार के इस कदम से जनता को होने वाले लाभों का समर्थन किया।

क्या राष्ट्रीय क्षय रोग और श्वसन रोग संस्थान में हुई रोबोटिक यूनिट का महत्व बढ़ाएगा?

जी हां, यह रोबोटिक यूनिट स्वास्थ्य सेवाओं में नई योजनाओं की शुरुआत करेगी और रोगियों को उच्चतम स्तर की देखभाल और सुरक्षा प्रदान करेगी।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर