This site for your education.

The New Sites

Any query

thenewsites20@gmail.com

Happiness is the highest level of success.

आर्थिक चुनौतियों के बीच रक्षा मंत्रालय ने इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ पर अरबों खर्च किये

रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ खरीदने के लिए बड़ा अनुबंध पर हस्ताक्षर किए

नई दिल्ली, 15 दिसम्बर 2023: भारतीय सेना की ताकत और सुरक्षा को और बढ़ाने के लिए, रक्षा मंत्रालय ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, पुणे के साथ पांच हजार तीन सौ करोड़ रुपये से अधिक के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। इस उद्घाटन से नौसेना, वायुसेना, और सेना को मैच्यूर इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ देने का कारगर और उच्च स्तरीय स्रोत होगा।

अनुबंध की महत्वपूर्ण विशेषताएं

रक्षा मंत्रालय के एक प्रमुख अधिकारी ने इस अनुबंध के बारे में कहा, “यह अनुबंध भारतीय सेना के लिए इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ की आपूर्ति को बढ़ाने का हिस्सा है। इससे हमारी सुरक्षा क्षमता में वृद्धि होगी और हम खुद अपनी तकनीकी जरूरियों को पूरा कर सकेंगे।”

इस अनुबंध का मूल्य वाणिज्यिक रूप से पांच हजार तीन सौ 36 करोड़ रुपये से अधिक है और यह दस वर्षों तक चलेगा। इसका मुख्य उद्देश्य स्वतंत्र रूप से इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ बनाना, सेना को समर्थन प्रदान करना और आयुध विनिर्माण में आत्मनिर्भरता की दिशा में कदम बढ़ाना है।

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड की भूमिका

इस अनुबंध के तहत, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड अपने पुणे और आगामी नागपुर संयंत्रों में इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ का निर्माण करेगा। यह एक महत्वपूर्ण कदम है जो विशेष रूप से रक्षा उद्योग को स्वतंत्र बनाने और तकनीकी दृढ़ता में सुधार करने की दिशा में है।

Also read: विश्व को चौंका देगा! सूरत का अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, नया दौर करेगा इतिहास

रोजगार सृजनता और योजनाएं

इस परियोजना के परिणामस्वरूप, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड से एक लाख 50 हजार मानव दिवस का रोजगार सृजित होगा। यह स्थानीय जनता के लिए नौकरी के अवसरों में बढ़ोतरी का स्रोत हो सकता है और भारतीय उद्योगों को भी अधिक भागीदारी प्रदान कर सकता है।

सुरक्षा और आत्मनिर्भरता की मुहीम

इस नए अनुबंध के माध्यम से, रक्षा मंत्रालय ने सुरक्षा में नए स्तरों की पहुंच की कड़ी मेहनत की है और आत्मनिर्भरता की मुहीम को मजबूती से आगे बढ़ाया है। भारतीय सेना अब इस उच्च स्तरीय इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ की सुरक्षा को और भी मजबूत करेगी, जिससे देश की सर्वोच्च रक्षा बल क्षमता में वृद्धि होगी।

निष्कर्ष

इस अनुबंध के माध्यम से, भारत ने एक बार फिर से दुनिया को दिखाया है कि वह अपनी रक्षा और उद्योग क्षेत्र में स्वायत्तता और निर्भरता में सुधार कर रहा है। इससे सेना को नई तकनीकी साधनों तक पहुंच मिलेगी और विश्वस्तरीय सुरक्षा में उच्च स्तर पर सहयोग होगा। यह एक ऐतिहासिक कदम है जो देश को बनाए रखने की दिशा में है और इससे भारतीय सेना की ताकत में नई ऊर्जा भरी जा रही है।

FAQs:

इस अनुबंध का उद्देश्य क्या है?

  • रक्षा मंत्रालय ने इस अनुबंध के माध्यम से भारतीय सेना को इलेक्ट्रॉनिक फ्यूज़ प्रदान करने का उद्देश्य रखा है, जिससे सुरक्षा और आत्मनिर्भरता में सुधार हो सके।

2. इस अनुबंध के लिए कितनी राशि हस्ताक्षर की गई है?

  • रक्षा मंत्रालय ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के साथ पांच हजार तीन सौ करोड़ रुपये से अधिक के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।

3. अनुबंध की अवधि क्या है?

  • इस अनुबंध की अवधि पांच हजार तीन सौ 36 करोड़ रुपये से अधिक है और यह दस वर्षों तक चलेगा।

4. इस अनुबंध से कैसे भारतीय सेना को लाभ होगा?

  • इस अनुबंध से सेना को मैच्यूर इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ मिलेगा, जिससे उसकी सुरक्षा क्षमता में वृद्धि होगी और तकनीकी जरूरियों को पूरा करने का क्षमता मिलेगा।

5. इस अनुबंध से रक्षा उद्योग को कैसा समर्थन मिलेगा?

  • इस अनुबंध के तहत, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ का निर्माण करेगा, जिससे रक्षा उद्योग को स्वतंत्रता और निर्भरता में सुधार होगा।

6. इस परियोजना से कितने लोगों को रोजगार का सृजन होगा?

  • इस परियोजना से भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड से एक लाख 50 हजार मानव दिवस का रोजगार सृजित होगा, जो स्थानीय जनता के लिए नौकरी के अवसरों में बढ़ोतरी का स्रोत हो सकता है।

7. इस अनुबंध के माध्यम से कौन-कौन सी योजनाएं हो सकती हैं?

  • इस अनुबंध के माध्यम से भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड द्वारा अपने पुणे और आगामी नागपुर संयंत्रों में इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ का निर्माण किया जाएगा।

8. इस अनुबंध से कौन-कौन से लाभ हो सकते हैं?

  • इस अनुबंध से सेना को उच्च स्तर के इलेक्ट्रॉनिक फ़्यूज़ का लाभ होगा, जिससे देश की सुरक्षा और रक्षा बल क्षमता में वृद्धि होगी।
error: Content is protected !!
झारखंड में 4919 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती DSSSB ने TGT में 5118 रिक्त पदों पर भर्ती निकाली नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया में निकली भर्ती MP पावर जनरेटिंग कंपनी में अप्रेंटिस वैकेंसी जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन में स्केल I ऑफिसर की वैकेंसी
झारखंड में 4919 कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती DSSSB ने TGT में 5118 रिक्त पदों पर भर्ती निकाली नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया में निकली भर्ती MP पावर जनरेटिंग कंपनी में अप्रेंटिस वैकेंसी जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन में स्केल I ऑफिसर की वैकेंसी