वित्त मंत्रालय द्वारा घोषित सुकन्या समृद्धि योजना की नयी ब्याज दरें

वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को जनवरी-मार्च 2024 तिमाही के लिए सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दरों में बदलाव की घोषणा की है। इसके अनुसार, सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर में 0.20% तक की वृद्धि हुई है, जिससे अब यह 8.2% हो गई है। इसके साथ ही, तीन साल के टाइम डिपॉजिट पर भी 0.10% का बढ़ोतरी होकर 7.1% तक पहुंच गया है।

इसमें परिवर्तन का ऐलान करते हुए, वित्त मंत्री ने कहा कि यह नया निर्णय सामान्य लोगों के लिए एक बड़ी सौगात है, जो इस योजना का लाभ उठा रहे हैं।

बदलते समय के साथ बदलती ब्याज दरें

इससे पहले 29 सितंबर को सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर के लिए रिकरिंग डिपॉजिट पर दरों में 0.20% की बढ़ोतरी की थी और अब इस नए ऐलान के साथ सुकन्या समृद्धि योजना में भी ब्याज दरों में बढ़ोतरी हुई है। सुकन्या स्कीम की पूर्व में 8% थी, जो अब 8.2% हो गई है।

यह बढ़ती ब्याज दरें वित्त मंत्रालय के प्रयासों का हिस्सा है जो लोगों को बचत और निवेश के लिए प्रेरित करने का उद्देश्य रखता है। इससे बचत करने वालों को अधिक ब्याज मिलने से निवेश करने की प्रेरणा भी बढ़ेगी।

ये भी पढ़ें: भारत में बढ़ते साइबर हमलों का खतरा: 70 महीने में 165 हमले, एंड्रॉयड फोन्स पर बढ़ रहा मालवेयर हमला

सुकन्या समृद्धि योजना: बेटियों के लिए सर्वोत्तम विकल्प

वित्त मंत्रालय के अनुसार, सुकन्या समृद्धि योजना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के एक हिस्से के रूप में लॉन्च किया था। इस योजना का मुख्य उद्देश्य है बेटियों के भविष्य को सुरक्षित बनाए रखना, उनकी शिक्षा और विवाह के लिए वित्तीय सहारा प्रदान करना है।

इस योजना में बेटी की उम्र 10 साल से कम होनी चाहिए और एक परिवार केवल दो सुकन्या समृद्धि योजना खोल सकता है। योजना में न्यूनतम निवेश ₹250 प्रति वर्ष है जबकि अधिकतम निवेश ₹1,50,000 प्रति वर्ष है। मैच्योरिटी पीरियड 21 साल है और इसके लिए बेटी का जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता या कानूनी अभिभावक की फोटो आईडी और एड्रेस प्रूफ देना होता है।

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स: बचत का सरल और सुरक्षित तरीका

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स भारत में हाउसहोल्ड सेविंग का मेजर सोर्स हैं और इसमें 12 इंस्ट्रूमेंट शामिल हैं। इन स्कीम्स में डिपॉजिटर्स को उनके पैसे पर तय ब्याज मिलता है, जो इसे सरकारी बॉन्ड की तुलना में एक आकर्षक विकल्प बनाता है। स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स के कलेक्शन को नेशनल स्मॉल सेविंग्स फंड (NSSF) में जमा किया जाता है और इन स्कीम्स का उच्च यील्ड सरकारी बॉन्ड के साथ तुलना करने का एक प्रमुख कारण है।

ये भी पढ़ें: उल्फा समझौता: शांति की कहानी, 700 कैडरों का समर्पण और उज्जवल भविष्य की आशा

ब्याज दरों का हर तिमाही में रिव्यू

स्मॉल सेविंग्स स्कीम की ब्याज दरों का हर तिमाही में रिव्यू होता है और इनकी ब्याज दरें तय करने का फॉर्मूला श्यामला गोपीनाथ समिति ने तय किया है। समिति ने सुझाव दिया है कि इन स्कीम की ब्याज दरें समान मैच्योरिटी वाले सरकारी बॉन्ड के यील्ड से 0.25-1.00% ज्यादा होनी चाहिए।

इससे स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स को लोगों के बीच में लोकप्रियता प्राप्त है, क्योंकि इसमें निवेश करने वालों को अधिक लाभ होता है और यह एक सुरक्षित और सरल तरीका प्रदान करता है बचत करने का।

समाप्ति से पहले निवेश करें, धन करें सुरक्षित

इस बढ़ते ब्याज दर के बावजूद, वित्त मंत्रालय ने इसे समझाया है कि लोगों को बचत और निवेश में सावधानी बरतना चाहिए। वित्त मंत्री ने कहा है कि स्मॉल सेविंग स्कीम्स में निवेश करने से पहले व्यक्ति को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी आर्थिक स्थिति और लक्ष्यों के अनुसार यह एक उपयुक्त निवेश है।

ये भी पढ़ें: आर्थिक और सैन्य तकनीकी में सहयोग: भारत-रूस का नया अध्याय

FAQs:

सुकन्या समृद्धि योजना के ब्याज दर में कैसे बदलाव हुआ है?

नई ब्याज दर के अनुसार, सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर में 0.20% तक की वृद्धि हुई है, जिससे यह अब 8.2% है। तीन साल के टाइम डिपॉजिट पर भी 0.10% का बढ़ोतरी होकर 7.1% तक पहुंच गया है।

क्या यह बदलाव सामान्य लोगों के लिए है और इसके क्या लाभ हैं?

हाँ, वित्त मंत्रालय के अनुसार, यह नया निर्णय सामान्य लोगों के लिए एक बड़ी सौगात है, जो सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठा रहे हैं। इससे बचत करने वालों को अधिक ब्याज मिलने से निवेश करने की प्रेरणा भी बढ़ेगी।

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है और इसका मुख्य उद्देश्य क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के रूप में 22 जनवरी 2015 को लॉन्च किया था। इसका मुख्य उद्देश्य है बेटियों के भविष्य को सुरक्षित बनाए रखना और उनकी शिक्षा और विवाह के लिए वित्तीय सहारा प्रदान करना।

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स क्या हैं और इसमें कैसे निवेश किया जा सकता है?

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स भारत में हाउसहोल्ड सेविंग का मेजर सोर्स हैं और इनमें डिपॉजिटर्स को उनके पैसे पर तय ब्याज मिलता है। इसमें निवेश करने वालों को अधिक लाभ होता है और यह बचत के लिए एक सुरक्षित और सरल तरीका प्रदान करता है।

लोगों को कैसे सुनिश्चित किया जा सकता है कि स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स में निवेश करना उपयुक्त है?

वित्त मंत्रालय ने समझाया है कि लोगों को बचत और निवेश में सावधानी बरतना चाहिए। स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स में निवेश करने से पहले व्यक्ति को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी आर्थिक स्थिति और लक्ष्यों के अनुसार यह एक उपयुक्त निवेश है।

 

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Direct hire fdh.