Hit-and-run cases: केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ के साथ बैठक की

Hit-and-run cases: आज गृह मंत्रालय ने अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ के साथ नई दिल्ली में एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की। इस बैठक में भारतीय न्याय संहिता के अंतर्गत हिट एण्ड रन मामलों के नए प्रावधानों पर चर्चा की गई और ट्रांसपोर्टरों की चिंता से जुड़े मुद्दों पर विस्तार से विचार-विमर्श किया गया।

नए प्रावधानों की चर्चा

बैठक की अध्यक्षता करते हुए गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने कहा, “संसद में हाल ही में पारित हुई भारतीय न्याय संहिता ने हिट एण्ड रन मामलों में सख्ती बढ़ाई है और इसमें सात लाख रूपये का जुर्माना और दस साल की कैद का प्रावधान किया गया है।” इस पर ट्रक, टेक्सी और बस ओपरेटरों ने तीन दिन की हड़ताल शुरू की है, जिसका विरोध अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ ने किया है। संघ का कहना है कि ये प्रावधान वाहन चालकों को अत्यधिक परेशान करेंगे और इसे वापस लिया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें: PM Modi Visit Tamil Nadu: PM मोदी ने तमिलनाडु में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश

बैठक में गृह सचिव ने यह भी बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के अनुसार हिट एण्ड रन मामलों में सजा की अवधि बढ़ाकर दस साल कर दी गई है। सर्वोच्च न्यायालय ने कई मामलों में कहा है कि लापरवाह होकर वाहन चलाने वाले चालक दुर्घटनाएं करते हैं, जिससे किसी की जान चली जाती है और फिर वह घटना स्थल से भाग जाते हैं।

इस मुद्दे पर गृह मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार, सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के परिप्रेक्ष्य में हिट एण्ड रन मामलों में सजा की अवधि बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। यह नया प्रावधान वाहन दुर्घटना मामलों में सजा को और भी कठिन बना सकता है और इससे वाहन चालकों की ओर से आपत्ति जताई जा रही है।

ये भी पढ़ें: Namo App:प्रधानमंत्री ने ‘नमो एप’ पर जनमन सर्वेक्षण में भाग लेने के लिए जन आह्वान किया

ट्रांसपोर्टरों की चिंता

बैठक में अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ के प्रतिष्ठान्वित सदस्यों ने इस नए प्रावधान के खिलाफ अपनी बात रखी और यह कहा कि इससे वाहन चालकों को अत्यधिक दिक्कतें होंगी। उनका मानना है कि इससे वाहन चलाने का प्रोसेस और भी जटिल हो जाएगा और सजा की अवधि बढ़ाने से वाहन चालकों को न्याय की दिशा में कठिनाई होगी।

हडताल का आरंभ

इसके अलावा, ट्रक, टेक्सी, और बस ओपरेटरों के एक संगठन ने तीन दिनों तक की हड़ताल का आयोजन किया है। इस हड़ताल के दौरान, वे अपने मांगों को लेकर सरकार से यातायात के प्रति अपनी चिंता व्यक्त कर रहे हैं और नए प्रावधानों को त्वरित रूप से वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

hit-and-run cases
hit-and-run cases

इस बीच, गृह मंत्रालय ने जनता को समझाया है कि नए प्रावधानों का उद्देश्य यह है कि वाहन चालकों को जिम्मेदारीपूर्ण तरीके से चलाने के लिए प्रेरित किया जाए और इससे यातायात सुरक्षा में सुधार हो। हालांकि, संगठन और वाहन चालकों का कहना है कि इससे उन्हें अत्यधिक कठिनाईयों का सामना करना पड़ेगा और उन्हें इसमें सहयोग नहीं मिलेगा।

ये भी पढ़ें: Goldie Brar: केंद्र सरकार ने गैंगस्टर गोल्डी बराड को आतंकवादी घोषित किया, गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त

इस विवाद से जुड़ी और भी ताजगी रखने के लिए हम आपको लगातार अपडेट करते रहेंगे।

FAQs:

प्रश्न: बैठक में कौन-कौन शामिल हुआ था और इसमें क्या चर्चा हुई थी?

उत्तर: बैठक में गृह सचिव अजय कुमार भल्ला और अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ के प्रतिष्ठान्वित सदस्यों ने शामिल होकर भारतीय न्याय संहिता के अंतर्गत हिट एण्ड रन मामलों के नए प्रावधानों पर चर्चा की गई, जिसमें ट्रांसपोर्टरों की चिंता पर भी विचार-विमर्श किया गया।

प्रश्न: सर्वोच्च न्यायालय ने किस प्रकार के आदेश जारी किए और उनमें क्या बदलाव किया गया?

उत्तर: सर्वोच्च न्यायालय ने हिट एण्ड रन मामलों में सजा की अवधि बढ़ाकर दस साल कर दी गई है, जिसमें यह प्रावधान शामिल है कि लापरवाह होकर वाहन चलाने वाले चालक दुर्घटनाएं करते हैं।

प्रश्न: कौन-कौन से वाहन ओपरेटर्स ने तीन दिन की हड़ताल की है और उनकी मुख्य मांग क्या है?

उत्तर: ट्रक, टेक्सी, और बस ओपरेटरों ने तीन दिनों की हड़ताल का आयोजन किया है और उनकी मुख्य मांग है कि नए प्रावधानों को त्वरित रूप से वापस लिया जाए और उनकी चिंताओं का समाधान हो।

प्रश्न: गृह मंत्रालय ने कैसे यह स्थिति स्पष्ट की है और नए प्रावधानों का उद्देश्य क्या है?

उत्तर: गृह मंत्रालय ने जनता को समझाया है कि नए प्रावधानों का उद्देश्य वाहन चालकों को जिम्मेदारीपूर्ण तरीके से चलाने के लिए प्रेरित करना है और इससे यातायात सुरक्षा में सुधार हो।

प्रश्न: वाहन चालकों के संगठन का क्या कहना है इस नए प्रावधान के बारे में?

उत्तर: वाहन चालकों के संगठन का कहना है कि इस नए प्रावधान से वाहन चालकों को अत्यधिक कठिनाईयों का सामना करना पड़ेगा और इसमें सहयोग नहीं मिलेगा।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Upgrade to vip. Link. Archiwa popularność suplementów w europie producent suplementów diety, produkcja kontraktowa suplementów diety ioc.