Heal in India Heal by India initiative: भारत के स्वास्थ्य मंत्री ने किया ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ पहल का उद्घाटन, दुनिया भर में चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार

Heal in India Heal by India initiative: स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर मनसुख मांडविया ने आज भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ पहल का उद्घाटन किया। इस महापर्व के मौके पर, डॉ. मांडविया ने बताया कि इस पहल के माध्यम से भारत ने दुनिया भर में चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ावा देने का संकल्प किया है।

विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाने का लक्ष्य

डॉ. मांडविया ने बताया कि भारत की चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवाएँ सीमाओं से परे फैली हुई हैं और यह ‘वसुधैव कुटुंबकम’ के सिद्धांत पर आधारित हैं। उन्होंने इस अवसर पर आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं में सामाजिक समानता लाने के प्रयास का सुझाव दिया।

ये भी पढ़ें: Clean Temple Campaign: प्रधानमंत्री मोदी ने ‘स्वच्छ मंदिर’ अभियान की शुरुआत की

नए स्वास्थ्य सुविधाओं का उद्घाटन

डॉ. मांडविया ने लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में दुर्घटना तथा आपातकालीन वार्ड का उद्घाटन करते हुए बताया कि उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सफदरजंग अस्पताल में स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर का भी उद्घाटन किया है। इसके साथ ही, उन्होंने नई दिल्ली के एम्स में राजकुमारी अमृत कौर कॉलेज ऑफ नर्सिंग और डॉ० राम मनोहर लोहिया अस्पताल में नए छात्रावास ब्लॉक और अकादमिक ब्लॉक का भी उद्घाटन किया है।

शिक्षा में वृद्धि का संकल्प

उन्होंने बताया कि दस वर्ष से भी कम समय में एमबीबीएस, पीजी और नर्सिंग सीटों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। डॉ. मांडविया ने कहा कि सरकार का लक्ष्य निवारक स्वास्थ्य देखभाल और आधुनिक चिकित्सा सुविधाओं में तालमेल के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में समग्र रूप से काम करना है।

इस मौके पर उन्होंने बढ़ते हुए चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में भी दिखाई गई अद्भुत प्रगति पर भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि भारत में चिकित्सा शिक्षा को गुणवत्ता और उच्चतम मानकों के साथ बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं।

इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “हमारा लक्ष्य यह है कि भारत दुनिया के चिकित्सा सेवाओं में एक नेतृत्व भूमिका निभाए और यह ही हमारी ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ पहल का मुख्य उद्देश्य है।”

ये भी पढ़ें: Secretary of Railway Board: सुश्री अरुणा नायर ने रेलवे बोर्ड के सचिव का पदभार संभाला

उन्होंने बताया कि भारत ने कोविड-19 महामारी के समय भी अपनी सामरिक और सावधानीपूर्ण चिकित्सा प्रणालियों को सफलतापूर्वक संचालित किया और विश्व को एक ऐसे महामारी का सामना करने की उत्कृष्टता प्रदान की है।

डॉ. मांडविया ने आगे बढ़ते हुए चिकित्सा क्षेत्र में नए अनुसंधान और विकास के लिए भी बड़ी राहदारी की बात की। उन्होंने कहा कि भारत ने बायोमेडिकल रिसर्च में भी महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं और नई तकनीकों के प्रयोग से चिकित्सा दुनिया में एक नई पहचान बना रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री ने आखिर में यह आश्वासन दिया कि सरकार वृद्धि के सफलतापूर्वक प्रमोट करने के लिए हमेशा प्रतिबद्ध रहेगी और चिकित्सा सेवाओं को नए उच्चतम स्तर पर पहुंचाने के लिए हर संभाव प्रयास करेगी।

सामाजिक समर्थन

इस महत्वपूर्ण घटना के दौरान, डॉ. मांडविया ने स्वास्थ्य सेवाओं में अद्वितीयता की बढ़ती हुई मांग पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित किया और दुनिया भर में भारतीय चिकित्सा पद्धति को महत्वपूर्ण बनाने का आदान-प्रदान किया। उन्होंने सुनिश्चित किया कि स्वास्थ्य सुविधाएँ सभी लोगों के लिए समर्थनयोग्य और पहुंचने योग्य हों, इससे समाज में सामाजिक और आर्थिक समानता को बढ़ावा मिले।

इस सकारात्मक घटना ने भारत के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में एक नई ऊँचाई को छूने की क्षमता को साबित किया है, और यह एक महत्वपूर्ण कदम है जो भारत को चिकित्सा और स्वास्थ्य क्षेत्र में विश्वस्तरीय मुकाबले की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करेगा।

ये भी पढ़ें: International Purple Celebration 2024: अंतर्राष्ट्रीय पर्पल उत्सव 2024, समावेशिता और सशक्तिकरण के साथ गोवा में एक विश्व स्तरीय उत्सव का आज शुभारंभ

सामान्य प्रश्न (FAQs) ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ के बारे में

  1. प्रश्न:डॉ. मनसुख मांडविया ने उद्घाटन समारोह में कौन-कौन सी स्वास्थ्य सुविधाएँ उद्घाटन की हैं?

    उत्तर: डॉ. मांडविया ने लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, सफदरजंग अस्पताल, राजकुमारी अमृत कौर कॉलेज ऑफ नर्सिंग, और डॉ० राम मनोहर लोहिया अस्पताल में नई स्वास्थ्य सुविधाएँ उद्घाटन की हैं।

  2. प्रश्न:भारत का ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ पहल का मुख्य उद्देश्य क्या है?

    उत्तर: भारत का ‘हील इन इंडिया, हील बाई इंडिया’ पहल का मुख्य उद्देश्य दुनियाभर में चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार करना है और स्वास्थ्य सेवाओं में सामाजिक समानता लाने का प्रयास करना है।

  3. प्रश्न:डॉ. मांडविया ने चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए कैसे कदम उठाए हैं?

    उत्तर: उन्होंने दस वर्ष से कम समय में एमबीबीएस, पीजी, और नर्सिंग सीटों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि करने का निर्णय लिया है।

  4. प्रश्न:डॉ. मांडविया ने कैसे सुनिश्चित किया है कि स्वास्थ्य सेवाएँ सभी के लिए पहुंचने योग्य हों?

    उत्तर: उन्होंने सुनिश्चित किया है कि स्वास्थ्य सुविधाएँ सभी लोगों के लिए समर्थनयोग्य हों, इससे समाज में सामाजिक और आर्थिक समानता को बढ़ावा मिले।

  5. प्रश्न:डॉ. मांडविया ने कोविड-19 महामारी के समय भारतीय चिकित्सा पद्धति की ऊँचाई को कैसे साबित किया?

    उत्तर: डॉ. मांडविया ने कोविड-19 के समय भारतीय चिकित्सा पद्धति को सफलतापूर्वक संचालित किया और विश्व को एक ऐसे महामारी का सामना करने की उत्कृष्टता प्रदान की है।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Backlinks are generated by incorporating clickable keywords into articles, known as contextual links. Link. Surowce do produkcji suplementów diety.