The New Sites

बिहार और त्रिपुरा में पांच हजार करोड़ रुपये से अधिक की मंजूरी: जानिए इसके पीछे की कहानी

बिहार और त्रिपुरा में पांच हजार करोड़ रुपये से अधिक की मंजूरी

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के नेतृत्व में आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति ने बड़ी स्थानीय और क्षेत्रीय सड़क परियोजनाओं को समर्थन देने के लिए अविश्वसनीय निर्णय किए हैं। बिहार और त्रिपुरा में पांच हजार करोड़ रुपये से अधिक की मंजूरी से उच्च स्तरीय सड़कों के निर्माण का होना एक साहसिक कदम है, जो नागरिकों को तेज़ और सुरक्षित यात्रा की सुविधा प्रदान करेगा और राज्यों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान करेगा।

बिहार में गंगा नदी पर नया पुल: दीघा और सोनपुर को जोड़ने के लिए अद्वितीय परियोजना

बिहार में आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति ने गंगा नदी पर सोनपुर और दीघा को जोड़ने के लिए साढ़े चार किलोमीटर से ज्यादा लंबे नए पुल के निर्माण को मंजूरी दी है। इस परियोजना की लागत तीन हजार 64 करोड़ रुपये से अधिक है, लेकिन यह निर्माण साधारित और वैशिष्ट्यपूर्ण पुल के माध्यम से जनता को बेहतर सुविधा और संबद्धता प्रदान करेगा। इस पुल के बनने से यहां के लोगों को तेज़ और आसान यात्रा का अनुभव होगा, जिससे उत्तर बिहार का समग्र विकास होगा।

ये भी पढ़ें: नारियल के न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि का निर्णय: क्या यह नारियल उत्पादकों के लिए लाभदायक होगा?

त्रिपुरा में सुधार: खोवाई-हरिना सड़क का 135 किलोमीटर लंबा हिस्सा

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने त्रिपुरा में खोवाई-हरिना सड़क के 135 किलोमीटर लंबे हिस्से के सुधार और चौड़ीकरण को मंजूरी देने का ऐलान किया है। इस योजना के तहत दो हजार 486 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश के लिए एक हजार 511 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण लिया जाएगा, जिसमें जापान अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एजेंसी से होने वाला ऋण शामिल है। इस सुधार से त्रिपुरा के विभिन्न हिस्सों के बीच बेहतर सड़क संपर्क बनेगा, और एनएच-8 के अलावा त्रिपुरा से असम और मेघालय तक नए वैकल्पिक मार्ग का उद्बोधन होगा।

यातायात को तेज़ और सुरक्षित बनाए रखने का प्रयास

इन सड़क परियोजनाओं के माध्यम से स्थानीय जनता को सुरक्षित और तेज़ यातायात का अधिकार होगा। नए पुलों और सड़कों के निर्माण से राज्यों के विकास में भूमिका निभाएगा, और इससे जनता को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर मिलेंगे। इन परियोजनाओं के माध्यम से नए और विकसित इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होगा, जिससे राज्यों का सामाजिक और आर्थिक विकास होगा।

ये भी पढ़ें: डिजिटल जीवन प्रमाण-पत्र: पेंशनभोगियों के लिए एक आसान और सुरक्षित विकल्प

आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति का साहसिक निर्णय

आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति का यह साहसिक निर्णय राज्यों के बीच बेहतर संबंध स्थापित करने में मदद करेगा और यह निर्णय सामाजिक समृद्धि और समृद्धि की दिशा में महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। इन सड़क परियोजनाओं का पूरा होना, नए और मॉडर्न भवनों की स्थापना, और यहां के लोगों को नए रोजगार के अवसर प्रदान करने में मदद करेगा।

सुविधाएं और रोजगार का सौभाग्यपूर्ण अवसर

इस साहसिक पहल के माध्यम से बिहार और त्रिपुरा राज्यों ने यातायात, रोजगार, और अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। नई सड़कों और पुलों का निर्माण न केवल यात्रा को सुविधाजनक बनाए रखेगा, बल्कि यह राज्यों को एक नए और सुशिक्षित भविष्य की दिशा में बढ़ावा देगा।

इस समाचार की जानकारी के स्रोत: [AIR News]

FAQs:

प्रश्न: इन सड़क परियोजनाओं के लिए बिहार और त्रिपुरा में पांच हजार करोड़ रुपये से अधिक की मंजूरी क्यों दी गई है?

उत्तर: सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के नेतृत्व में, आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति ने स्थानीय और क्षेत्रीय सड़क परियोजनाओं को समर्थन देने के लिए इस बड़े निर्णय को लेकर अविश्वसनीय मंजूरी दी है। इससे नागरिकों को तेज़ और सुरक्षित यात्रा की सुविधा मिलेगी और राज्यों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

प्रश्न: बिहार में गंगा नदी पर नए पुल के निर्माण की लागत कितनी है और इसके फायदे क्या होंगे?

उत्तर: आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति ने गंगा नदी पर सोनपुर और दीघा को जोड़ने के लिए साढ़े चार किलोमीटर से ज्यादा लंबे नए पुल के निर्माण की मंजूरी दी है, जिसकी लागत तीन हजार 64 करोड़ रुपये से अधिक है। इससे जनता को बेहतर सुविधा और संबद्धता होगी, जो उत्तर बिहार के समग्र विकास में मदद करेगा।

प्रश्न: त्रिपुरा में होने वाले सुधारों के लिए निवेश का योजना क्या है और इससे कैसे फायदा होगा?

उत्तर: सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने त्रिपुरा में खोवाई-हरिना सड़क के 135 किलोमीटर लंबे हिस्से के सुधार के लिए एक हजार 511 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण लेने का ऐलान किया है। इससे त्रिपुरा के विभिन्न हिस्सों के बीच बेहतर सड़क संपर्क बनेगा और नए वैकल्पिक मार्गों का उद्बोधन होगा।

प्रश्न: इन सड़क परियोजनाओं के माध्यम से कैसे यातायात को तेज़ और सुरक्षित बनाए रखने का प्रयास होगा?

उत्तर: ये सड़क परियोजनाएं स्थानीय जनता को सुरक्षित और तेज़ यातायात का अधिकार प्रदान करेंगी। नए पुल और सड़कों के निर्माण से राज्यों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा, और जनता को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर मिलेंगे।

प्रश्न: इस निवेश के माध्यम से कैसे आर्थिक मंत्रिमंडलीय समिति का साहसिक निर्णय राज्यों के बीच कैसे मदद करेगा?

उत्तर: यह साहसिक निर्णय राज्यों के बीच बेहतर संबंध स्थापित करने में मदद करेगा और सामाजिक समृद्धि और समृद्धि की दिशा में महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। इसके माध्यम से नए और मॉडर्न भवनों की स्थापना होगी, और यह नए रोजगार के अवसर प्रदान करने में मदद करेगा।

प्रश्न: इस साहसिक पहल के माध्यम से बिहार और त्रिपुरा कैसे फायदा कमा सकते हैं?

उत्तर: इस साहसिक पहल के माध्यम से बिहार और त्रिपुरा राज्यों ने यातायात, रोजगार, और अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया है, जिससे नई सड़कें और पुल न केवल यात्रा को सुविधाजनक बनाए रखेंगे, बल्कि राज्यों को एक नए और सुशिक्षित भविष्य की दिशा में बढ़ावा देगा।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
fb-share-icon20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Advantages of local domestic helper.