The New Sites

IISER तिरुपति द्वारा हाइड्रोजन उत्पादन की नई विधि की खोज

संक्षेप नोट्स और MCQs परीक्षा के दृष्टि से

हाइड्रोजन अर्थव्यवस्था

  • परियोजना: हाइड्रोजन उत्पादन
  • संयोजन: मेथनॉल, फॉर्मेल्डिहाइड

मुख्य शोध

  • मेथनॉल और फॉर्मेल्डिहाइड से हाइड्रोजन उत्पादन
  • माइल्ड कंडीशन्ज़ में नवप्रवर्तनकारी कृत्रिम विधि

विधि और प्रयोग

  • मिश्रण: मेथनॉल, पैराफॉर्मेल्डिहाइड
  • विधि: माइल्ड कंडीशन्ज़
  • उपयोग: एल्काइन्स का हाइड्रोजनीकरण, विशेषतः एल्केन्स में परिवर्तन, हाइड्रोजन वाहक के रूप में संभावित उपयोग

ऊर्जा स्रोत की जरूरत

  • जीवाश्म ईंधन की कमी
  • वैकल्पिक और टिकाऊ ऊर्जा स्रोत की खोज

हाइड्रोजन गैस उत्पादन का महत्व

  • ऊर्जा भंडारण और परिवहन में सक्षम
  • रासायनिक प्रक्रियाओं में जीवाश्म ईंधन का विकल्प

मेथनॉल और पैराफॉर्मेल्डिहाइड के फायदे

  • व्यापक उत्पादन और प्रचुरता
  • हाइड्रोजन भंडारण और परिवहन में मूल्यवान

शोध का नेतृत्व

  • संस्थान: आईआईएसईआर तिरुपति
  • प्रमुख: प्रोफेसर एकम्बरम बालारमन
  • बिना क्षार या एक्टिवेटर के निकेल उत्प्रेरक का उपयोग

उत्प्रेरक प्रणाली

  • माइल्ड कंडीशन्ज़ में उच्च दक्षता
  • कीमो- और स्टीरियो-चयनात्मक हाइड्रोजनीकरण

प्रकाशन

  • पत्रिका: कैटेलिसिस साइंस एंड टेक्नोलॉजी पत्रिका में स्वीकृत
  • समर्थन: एएनआरएफ, डीएसटी
  • उपलब्धि: COx-मुक्त हाइड्रोजन उत्पादन

निष्कर्ष और प्रभाव

  • COx-मुक्त हाइड्रोजन उत्पादन का नया मार्ग
  • वैश्विक ऊर्जा मांगों का समाधान
  • स्थायी ऊर्जा समाधानों की दिशा में महत्वपूर्ण कदम

IISER तिरुपति द्वारा हाइड्रोजन उत्पादन की नई विधि की खोज से सम्बंधित MCQs:

1. IISER तिरुपति के शोधकर्ताओं ने हाइड्रोजन के कुशल उत्पादन के लिए रसायनों के किस संयोजन का उपयोग किया है?

  1. मेथनॉल और इथेनॉल
  2. मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड
  3. फॉर्मलडिहाइड और पैराफॉर्मलडिहाइड
  4. इथेनॉल और फॉर्मलडिहाइड

उत्तर: b) मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड

स्पष्टीकरण: IISER तिरुपति के शोधकर्ताओं ने मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड के संयोजन का उपयोग करके हाइड्रोजन का उत्पादन करने के लिए एक कुशल विधि विकसित की है।

2. शोधकर्ताओं के अनुसार मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड का उपयोग करके उत्पादित हाइड्रोजन का प्राथमिक अनुप्रयोग क्या है?

  1. ऑटोमोबाइल के लिए ईंधन
  2. रासायनिक संश्लेषण और संधारणीय ऊर्जा समाधान
  3. बिजली संयंत्रों में बिजली उत्पादन
  4. घरेलू हीटिंग

उत्तर: b) रासायनिक संश्लेषण और संधारणीय ऊर्जा समाधान

स्पष्टीकरण: उत्पादित हाइड्रोजन रासायनिक संश्लेषण और संधारणीय ऊर्जा समाधान के लिए विशेष रूप से प्रभावी है।

3. IISER तिरुपति के शोधकर्ताओं की खोज ऊर्जा क्षेत्र में किस चुनौती को संबोधित करती है?

  1. परमाणु ऊर्जा पर अत्यधिक निर्भरता
  2. जीवाश्म ईंधन की कमी
  3. नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों की कमी
  4. अत्यधिक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन

उत्तर: b) जीवाश्म ईंधन की कमी

स्पष्टीकरण: यह खोज जीवाश्म ईंधन की तेजी से कमी की चुनौती को संबोधित करती है और संधारणीय और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों की आवश्यकता को रेखांकित करती है।

4. शोधकर्ताओं ने मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड से हाइड्रोजन उत्पादन के लिए किस उत्प्रेरक का उपयोग किया है?

  1. प्लैटिनम उत्प्रेरक
  2. पैलेडियम उत्प्रेरक
  3. निकल उत्प्रेरक
  4. स्वर्ण उत्प्रेरक

उत्तर: c) निकल उत्प्रेरक

स्पष्टीकरण: शोधकर्ताओं ने मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड से हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए व्यावसायिक रूप से उपलब्ध निकल उत्प्रेरक का उपयोग किया।

5. मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड को आशाजनक हाइड्रोजन वाहक क्यों माना जाता है?

  1. वे दुर्लभ और महंगे हैं।
  2. वे प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं और उत्पादन में आसान हैं।
  3. वे खतरनाक हैं और उन्हें स्टोर करना मुश्किल है।
  4. उनका उपयोग मुख्य रूप से खाद्य उद्योग में किया जाता है।

उत्तर: b) वे प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं और उत्पादन में आसान हैं

स्पष्टीकरण: मेथनॉल और पैराफॉर्मलडिहाइड को उनकी प्रचुरता और उत्पादन में आसानी के कारण आशाजनक हाइड्रोजन वाहक माना जाता है, जो उन्हें हाइड्रोजन भंडारण और परिवहन के लिए मूल्यवान बनाता है।

6. IISER तिरुपति द्वारा किए गए शोध में ANRF ने क्या भूमिका निभाई?

  1. तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान की
  2. प्रयोगशाला सुविधाएँ प्रदान की
  3. अनुसंधान को वित्तपोषित किया
  4. अनुसंधान परिणामों का विपणन किया

उत्तर: c) अनुसंधान को वित्तपोषित किया

स्पष्टीकरण: अनुसंधान को ANRF द्वारा समर्थित किया गया था, जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) के तहत पूर्व SERB का एक वैधानिक निकाय है।

7. IISER तिरुपति के शोध को किस प्रकाशन में प्रकाशन के लिए स्वीकार किया गया है?

  1. नेचर
  2. साइंस
  3. कैटेलिसिस साइंस एंड टेक्नोलॉजी
  4.  जर्नल ऑफ़ हाइड्रोजन एनर्जी

उत्तर: c) कैटेलिसिस साइंस एंड टेक्नोलॉजी

स्पष्टीकरण: अनुसंधान को कैटेलिसिस साइंस एंड टेक्नोलॉजी पत्रिका में प्रकाशन के लिए स्वीकार किया गया है।

8. शोधकर्ताओं के अनुसार नव विकसित हाइड्रोजन उत्पादन प्रक्रिया को क्या उल्लेखनीय बनाता है?

  1. यह उच्च COx उत्सर्जन के साथ हाइड्रोजन का उत्पादन करता है।
  2. यह COx-मुक्त हाइड्रोजन का उत्पादन करता है।
  3. इसके लिए बहुत अधिक ऊर्जा इनपुट की आवश्यकता होती है।
  4. यह केवल एक सैद्धांतिक अवधारणा है।

उत्तर: b) यह COx-मुक्त हाइड्रोजन का उत्पादन करता है

स्पष्टीकरण: यह प्रक्रिया COx-मुक्त हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए उल्लेखनीय है, जो ‘हाइड्रोजन अर्थव्यवस्था’ की उन्नति में योगदान देता है।

9. इसकी स्थितियों के संदर्भ में नव विकसित हाइड्रोजन उत्पादन विधि का क्या महत्व है?

  1. इसके लिए उच्च तापमान और दबाव की आवश्यकता होती है।
  2. इसके लिए हल्की स्थितियों की आवश्यकता होती है।
  3. इसके लिए मजबूत एसिड या बेस की आवश्यकता होती है।
  4. इसके लिए जटिल मशीनरी की आवश्यकता होती है।

उत्तर: b) इसके लिए हल्की स्थितियों की आवश्यकता होती है

स्पष्टीकरण: विकसित की गई नई विधि हल्की स्थितियों में काम करती है, जो इसे विभिन्न अनुप्रयोगों के लिए अभिनव और संभावित रूप से अधिक व्यावहारिक बनाती है।

10. हाइड्रोजन वाहक के रूप में मेथनॉल और पैराफ़ॉर्मलडिहाइड का उपयोग करने का एक महत्वपूर्ण लाभ क्या है?

  1. वे अस्थिर हैं और उन्हें प्रबंधित करना मुश्किल है।
  2. उनमें ऊर्जा की मात्रा कम है।
  3. वे मुक्त हाइड्रोजन पर महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करते हैं।
  4. वे केवल छोटे पैमाने के अनुप्रयोगों में उपयोगी हैं।

उत्तर: c) वे मुक्त हाइड्रोजन पर महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करते हैं

स्पष्टीकरण: मेथनॉल और पैराफ़ॉर्मलडिहाइड मुक्त हाइड्रोजन पर पर्याप्त लाभ प्रदान करते हैं, विशेष रूप से भंडारण और परिवहन दक्षता के संदर्भ में, जो वैश्विक ऊर्जा मांगों को संबोधित करने के लिए महत्वपूर्ण है।

(Source: AIR News, PIB News, DD News, BBC News, Bhaskar News ,Wikipedia)

ये भी पढ़ें:सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड को मिनी रत्न का दर्जा प्राप्त 

ये भी पढ़ें:पूर्वी और पश्चिमी घाट के इलाकों में मीठे पानी में डायटम की एक नई प्रजाति की खोज

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
fb-share-icon20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Domestic helper visa extension hk$900.