Today current affairs in Hindi 19 January 2024; डेली करंट अफेयर्स हिंदी में

Today current affairs in Hindi 19 January 2024

“TheNewSites” Team के द्वारा प्रकाशित Daily current affairs in Hindi, Today current affairs Hindi 2024, Current affairs for upsc, State PSC, SSC, Banking, Railways in Hindi सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयुक्त है। इसके अलावे दिन भर के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स हमारे साइट पर जाके पढ़ सकते है।

प्रधानमंत्री मोदी ने श्री राम जन्मभूमि मंदिर को छह स्मारक डाक टिकट जारी किए

  • प्रधानमंत्री मोदी ने श्री राम जन्मभूमि मंदिर के समर्पण पर छह विशेष डाक टिकट जारी किए।
  • इन टिकटों के अलावा, प्रभु श्रीराम से जुड़े कई देशों में पहले से जारी डाक टिकटों का एक संग्रह भी जारी किया गया है।
  • प्रधानमंत्री ने कहा कि डाक टिकट न केवल एक कागज का टुकड़ा है, बल्कि इतिहास की किताबों, चित्रों और ऐतिहासिक स्थानों का सबसे छोटा संस्करण है।
  • इन स्मारक टिकटों का मुख्य उद्देश्य युवा पीढ़ी को प्रभु राम और उनके जीवन के बारे में बताना है।
  • टिकटों पर कलात्मक अभिव्यक्ति के माध्यम से प्रभु राम के प्रति श्रद्धा व्यक्त की गई है और देश का विकास चाहा गया है।
  • प्रधानमंत्री ने कहा कि इन टिकटों को अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कंबोडिया, कनाडा, चेक गणराज्य, फिजी, इंडोनेशिया, श्रीलंका, न्यूजीलैंड, थाईलैंड, गुयाना और सिंगापुर में वितरित किया गया है।
  • डाक टिकट के डिजाइन में सूर्य, सरयू नदी, राम मंदिर, चौपाई, “मंगल भवन अमंगल हारी,” और मंदिर और आसपास की प्रतिमाओं का चित्रण शामिल हैं।
  • इन टिकटों पर सूर्यवंशी राम का चित्र है, जो देश में नवीनता का संदेश भी देता है।
  • पुण्य नदी सरयू का चित्र भी है, जो राम के आशीर्वाद से देश को हमेशा चमकदार बनाए रखता है।
  • प्रधानमंत्री ने भगवान राम, माता सीता और रामायण की शिक्षाएं बताई, जो समय, समाज, जाति, धर्म और क्षेत्र से परे हैं।
  • रामायण की कहानियां साहस, प्रेम, त्याग और एकता की प्रेरणा देती हैं, जो सभी को एकजुट करती हैं।
  • प्रधानमंत्री ने महर्षि वाल्मिकी की बात को याद करते हुए कहा कि जब तक पृथ्वी पर पर्वत और नदियां हैं, रामायण की कहानी सदा चरित्र से भरी रहेगी।

ये भी पढ़ें: Shree Ram Janmabhoomi Mandir Ke Daak Tikat: प्रधानमंत्री ने श्री राम जन्मभूमि मंदिर को समर्पित छह स्मारक डाक टिकट जारी किए,जानिए डाक टिकट की कहानी

भारत और डोमिनिकन गणराज्य के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौता

  • प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और डोमिनिकन गणराज्य के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी है।
  • इस समझौते को 4 अक्टूबर, 2023 को हस्ताक्षर किए गए थे और इसका उद्देश्य चिकित्सा उत्पादों के निर्यात को सुविधाजनक बनाए रखना है।
  • समझौता ज्ञापन चिकित्सा उत्पादों और पक्षकारों के अधिकार क्षेत्र में प्रासंगिक प्रशासनिक और विनियामक मामलों में सूचना और सहयोग को बढ़ावा देगा।
  • यह सहमति विनियामक एजेंसियों के बीच बातचीत की सुविधा प्रदान करके अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में चल रही घटिया और नकली दवाओं के मुद्दों को सुलझाने में मदद करेगा।
  • इस समझौते से भारत को दवाओं का निर्यात बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिससे फार्मास्युटिकल क्षेत्र में रोजगार के बेहतर अवसरों में सुधार हो सकता है।
  • यह समझौता ज्ञापन चिकित्सा उत्पादों के निर्यात को बढ़ाने के साथ-साथ विदेशी मुद्रा कमाने में भी मदद करेगा, जिससे आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक कदम बढ़ाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें: Cooperation Agreement between India and Dominican Republic: चिकित्सा उत्पाद विनियमन में भारत-डोमिनिकन सहयोग समझौते, 5 महत्वपूर्ण बातें

भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौता

  • प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने चिकित्सा उत्पाद विनियमन के क्षेत्र में भारत और नीदरलैंड के बीच समझौता ज्ञापन (MOU) को मंजूरी दी है।
  • इस समझौता ज्ञापन पर 7 नवंबर, 2023 को हस्ताक्षर किए गए थे और इसका उद्देश्य चिकित्सा उत्पादों के निर्यात को सुविधाजनक बनाए रखना है।
  • समझौता ज्ञापन चिकित्सा उत्पादों के निर्यात से संबंधित मामलों में मानव विषयों, CDSCO, चिकित्साएं मूल्यांदकन बोर्ड, स्वास्थ्य और युवा देखभाल निरीक्षणालय, और नीदरलैंड के बीच सहयोग और सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक ढांचा स्थापित करना है।
  • दोनों देशों के नियामक प्राधिकरणों के बीच यह समझौता ज्ञापन फार्मास्युटिकल्स के संबंध में चिकित्सा उत्पादों के विनियमन की बेहतर समझ की सुविधा प्रदान करेगा।
  • इस सहयोग से विनियामक प्रथाओं में समावेश के माध्यम से भारत से दवाओं के निर्यात को बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिससे फार्मास्युटिकल क्षेत्र में रोजगार के बेहतर अवसरों में सुधार हो सकता है।
  • यह समझौता ज्ञापन चिकित्सा उत्पादों के निर्यात की सुविधा प्रदान करेगा और विदेशी मुद्रा कमाने में मदद करेगा, जिससे आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक कदम और बढ़ाया जा सकता है।

भारतीय रेल में गो ग्रीन पहल की शुरआत

  • लक्ष्य: तक भारतीय रेलवे को जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग से मुकाबला करने के लिए ग्रीन रेलवे में बदलना
  • 2030 तक भारतीय रेलवे को जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग से मुकाबला करने के लिए ग्रीन रेलवे में बदलना
  • मुख्य पहल:
    • रेलवे विद्युतीकरण,Trains और लोकोमोटिव की ऊर्जा दक्षता में सुधार
    • इंस्टॉलेशन्स/स्टेशनों के लिए ग्रीन सर्टिफिकेशन
    • जीरो कार्बन उत्सर्जन की नेट योजना
  • पहचाने गए क्षेत्रों/गतिविधियों की स्थिति:
    • सौर ऊर्जा:
      • नॉन-ट्रैक्शन और ट्रैक्शन क्षेत्र में कुल 216.36 मेगावाट की स्थापित क्षमता है।
      • चालू की गई क्षमता (मार्च ‘2014 से):
        • 3.68 मेगावाट (मार्च ‘2014 तक)
        • 155.98 मेगावाट (रूफटॉप, 2014-23)
        • 56.7 मेगावाट (लैंडबेस्ड, 2014-23)
        • 2023 में 71.37 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रदान की गई है।
    • पवन ऊर्जा:
      • कुल स्थापित क्षमता: 103.4 मेगावाट
      • चालू की गई क्षमता (मार्च ‘2014 से):
        • 10.5 मेगावाट (मार्च ‘2014 तक)
        • 92.9 मेगावाट (2014-23)
  • कार्बन फुटप्रिंट को कम करने की प्रतिबद्धता:
    • 14 जून 2023 को नवीकरणीय ऊर्जा और ऊर्जा दक्षता पर सहयोग के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर
    • समझौता भारत सरकार, भारतीय रेल, और यूएसएआईडी/इंडिया के बीच हुआ
  • भारतीय रेल ने सौर और पवन ऊर्जा के साथ ग्रीन रेलवे की दिशा में कई प्रमुख पहल की है, जो ग्लोबल वॉर्मिंग के खिलाफ एक सकारात्मक कदम है।

ये भी पढ़ें: OpenAI ने घोषित किया: भारत में लोकसभा चुनावों में AI का इस्तेमाल पर लगाई पाबंदी, लाएगी नई तकनीकियाँ फेक न्यूज़ को रोकने के लिए

निर्वाचन आयोग ने EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम शुरू किया

  • निर्वाचन आयोग ने 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम शुरू किया।
  • नागरिकों को मतदान प्रक्रिया से अनवरत परिचित कराना और EVM और VVPATको समझाने के लिए कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है।
  • लोकसभा 2024 के आम चुनाव से पहले आयोजित किया जा रहा है, जिसमें वोटिंग मशीनों की कार्यप्रणाली, मतदाताओं के साथ EVM और VVPATका बेहतर समझाया जा रहा है।
  • कार्यक्रम में 31 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों के 613 जिलों में फैले 3464 विधानसभा क्षेत्रों में जागरूकता गतिविधियां शामिल हैं।
  • जनता के सामने 3500 से अधिक प्रदर्शन केन्द्र और 4250 मोबाइल वैन स्थापित किए गए हैं, जो EVM और VVPAT की कार्यक्षमता को समझ में बढ़ावा देगा।
  • EVM और VVPAT की बुनियादी विशेषताओं के बारे में जनता को शिक्षित करने के लिए कार्यक्रम केंद्रित है।
  • आयोग के स्थायी निर्देशों के अनुसार, राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को चुनाव की घोषणा से लगभग 3 महीने पहले जागरूकता अभियान शुरू करना होगा।

ये भी पढ़ें: Chaadar Trek Abhiyaan: भारतीय नौसेना के प्रमुख ने लद्दाख की जांस्कर नदी के लिए चादर ट्रेक अभियान को झंडी दिखाकर रवाना किया

(Source: AIR News, PIB News, DD News, BBC News, Bhaskar News)

Read more…..

18 जनवरी 2023 का Daily current affairs in Hindi. 

FAQs:

  1. भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौता कब हुआ था और किसने किया था?

    समझौता 7 नवंबर, 2023 को हस्ताक्षर किया गया था, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के क्षेत्र में सहयोग का समझौता किया।

  2. भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौता का उद्देश्य क्या है?

    समझौता चिकित्सा उत्पादों के निर्यात को सुविधाजनक बनाए रखने का उद्देश्य रखता है।

  3. भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौता के अंतर्गत कौन-कौन से आधिकारिक एजेंसियां शामिल हैं?

    समझौता ज्ञापन में मानव विषयों, CDSCO, चिकित्साएं मूल्यांदकन बोर्ड, स्वास्थ्य और युवा देखभाल निरीक्षणालय, और नीदरलैंड के बीच सहयोग और सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक ढांचा स्थापित किया गया है।

  4. कैसे भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग से फायदा हो सकता है?

    इस सहयोग से विनियामक प्रथाओं में समावेश के माध्यम से भारत से दवाओं के निर्यात को बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिससे फार्मास्युटिकल क्षेत्र में रोजगार के बेहतर अवसरों में सुधार हो सकता है।

  5. भारत और नीदरलैंड के बीच चिकित्सा उत्पाद विनियमन के सहयोग पर समझौते का भारत के लिए क्या महत्व है?

    यह समझौता ज्ञापन चिकित्सा उत्पादों के निर्यात की सुविधा प्रदान करेगा और विदेशी मुद्रा कमाने में मदद करेगा, जिससे आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक कदम और बढ़ाया जा सकता है।

  6. भारतीय रेल में गो ग्रीन पहल क्या है?

    गो ग्रीन पहल भारतीय रेलवे को जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग से मुकाबला करने के लिए ग्रीन रेलवे में बदलने का लक्ष्य रखती है।

  7. भारतीय रेल में गो ग्रीन पहल का मुख्य उद्देश्य क्या है?

    2030 तक भारतीय रेलवे को जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग से मुकाबला करने के लिए ग्रीन रेलवे में बदलना है।

  8. क्या-क्या मुख्य पहल हैं इस भारतीय रेल गो ग्रीन पहल के तहत?

    इस पहल के तहत मुख्य पहलें शामिल हैं:
    रेलवे विद्युतीकरण, ट्रेन्स और लोकोमोटिव की ऊर्जा दक्षता में सुधार
    इंस्टॉलेशन्स/स्टेशनों के लिए ग्रीन सर्टिफिकेशन
    जीरो कार्बन उत्सर्जन की नेट योजना

  9. भारतीय रेल गो ग्रीन पहल में सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा के क्षेत्र में क्या प्रगति है?

    सौर ऊर्जा क्षेत्र में 2023 में 71.37 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रदान की गई है और पवन ऊर्जा क्षेत्र में कुल स्थापित क्षमता 103.4 मेगावाट है।

  10. भारतीय रेल गो ग्रीन पहल के माध्यम से कैसे विश्वासुयक ऊर्जा का इस्तेमाल किया जा रहा है?

    भारतीय रेल ने सौर और पवन ऊर्जा के साथ ग्रीन रेलवे की दिशा में कई प्रमुख पहल की है, जो ग्लोबल वॉर्मिंग के खिलाफ एक सकारात्मक कदम है।

  11. क्या कारण है इस EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत का?

    निर्वाचन आयोग ने 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम शुरू किया है ताकि नागरिकों को मतदान प्रक्रिया से अनवरत परिचित कराया जा सके।

  12. किस लक्ष्य के लिए EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम शुरू किया गया है?

    इसका मुख्य उद्देश्य नागरिकों को मतदान प्रक्रिया से अनवरत परिचित कराना और EVM और VVPAT को समझाने के लिए है।

  13. कितने राज्यों में EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम की गतिविधियां हो रही हैं?

    कार्यक्रम में 31 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों के 613 जिलों में फैले 3464 विधानसभा क्षेत्रों में जागरूकता गतिविधियां शामिल हैं।

  14. कौन-कौन से साधन स्थापित किए गए हैं जनता को EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से?

    जनता के सामने 3500 से अधिक प्रदर्शन केन्द्र और 4250 मोबाइल वैन स्थापित किए गए हैं, जो EVM और VVPAT की कार्यक्षमता को समझ में बढ़ावा देगा।

  15. EVM और VVPAT की शिक्षा के लिए EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम कैसे मदद करेगा?

    कार्यक्रम के माध्यम से नागरिकों को EVM और VVPAT की बुनियादी विशेषताओं के बारे में जानकारी मिलेगी जो मतदाताओं को इस्तेमाल करने में सुरक्षित और आत्मविश्वासी बनाए रखेगी।

  16. EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम में राज्यों के साथ सहयोग कैसे हो रहा है?

    आयोग के स्थायी निर्देशों के अनुसार, राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को चुनाव की घोषणा से लगभग 3 महीने पहले जागरूकता अभियान शुरू करना होगा।

  17. क्या इस EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से नागरिकों को सवाल पूछने का भी अवसर मिलेगा?

    हाँ, जागरूकता कार्यक्रम में नागरिकों को EVM और VVPAT से संबंधित सवाल पूछने के लिए विभिन्न केंद्र और मोबाइल वैन स्थापित किए गए हैं ताकि उन्हें सही जानकारी मिल सके।

  18. इस EVM और VVPAT पर राष्ट्रव्यापी जागरूकता कार्यक्रम का लाभ कौन-कौन होगा?

    यह कार्यक्रम नागरिकों, विधानसभा क्षेत्रों, और राज्यों के निर्वाचन अधिकारियों को सही और सुरक्षित मतदान की प्रक्रिया को समझाने में मदद करेगा।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Advantages of overseas domestic helper.