The New Sites

तिब्बत-चीन विवाद पर अमेरिकी कांग्रेस का अधिनियम

[Source: Business Standard]

संक्षेप नोट्स और MCQs परीक्षा के दृष्टि से

  • अधिनियम का उद्देश्य
    • तिब्बत-चीन विवाद का समाधान
    • अंतरराष्ट्रीय कानून व यूएन चार्टर के अनुसार
    • बिना शर्त संवाद द्वारा शांतिपूर्ण समाधान
  • दलाइ लामा का “मध्यम मार्ग दृष्टिकोण”
    • तिब्बत पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना का हिस्सा
    • तिब्बतियों को सार्थक स्वायत्तता

तिब्बत-चीन विवाद का इतिहास

  • शुरुआत
    • 20वीं सदी की शुरुआत में सैन्य संघर्ष
    • 1912 में तिब्बत ने खुद को स्वतंत्र घोषित किया
    • 1950 तक स्वायत्त क्षेत्र के रूप में कार्य
  • सत्रह बिंदु समझौता (1951)
    • तिब्बत पर चीन की संप्रभुता
    • चीन का दावा: संप्रभुता का प्रमाण
    • तिब्बत का दावा: दबाव में हस्ताक्षर

भारत का रुख

  • 1959
    • असफल विद्रोह के बाद
    • दलाइ लामा को भारत में शरण
  • 2003
    • तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र को चीन का हिस्सा माना
    • भारत-चीन संबंध और सहयोग पर घोषणा पत्र

प्रमुख बिंदु

  • शांतिपूर्ण समाधान का समर्थन
  • तिब्बतियों के अधिकार
  • भारत-चीन कूटनीति
  • दलाई लामा की नीति

तिब्बत-चीन विवाद पर अमेरिकी कांग्रेस का अधिनियम से सम्बंधित MCQs:

1. “तिब्बत-चीन विवाद के समाधान को बढ़ावा देने वाले अधिनियम” का प्राथमिक फोकस क्या है?

  1.  तिब्बत में सैन्य हस्तक्षेप
  2. अंतर्राष्ट्रीय कानून के माध्यम से तिब्बत-चीन विवाद का समाधान
  3. चीन पर आर्थिक प्रतिबंध
  4. तिब्बती स्वतंत्रता को बढ़ावा देना

सही उत्तर: B) अंतर्राष्ट्रीय कानून के माध्यम से तिब्बत-चीन विवाद का समाधान

स्पष्टीकरण: अधिनियम अंतर्राष्ट्रीय कानून और बिना किसी पूर्व शर्त के शांतिपूर्ण संवाद के माध्यम से तिब्बत-चीन विवाद को हल करने पर जोर देता है।

2. दलाई लामा का “मध्य मार्ग दृष्टिकोण” क्या प्रस्तावित करता है?

  1. तिब्बत के लिए पूर्ण स्वतंत्रता
  2. सार्थक स्वायत्तता के साथ चीन के एक हिस्से के रूप में तिब्बत
  3. भारत के प्रशासन के तहत तिब्बत
  4. एक तिब्बती सेना की स्थापना

सही उत्तर: B) सार्थक स्वायत्तता के साथ चीन के एक हिस्से के रूप में तिब्बत

स्पष्टीकरण: “मध्य मार्ग दृष्टिकोण” तिब्बतियों के लिए सार्थक स्वायत्तता सुनिश्चित करते हुए तिब्बत को चीन के हिस्से के रूप में बनाए रखने का प्रयास करता है।

3. तिब्बत ने खुद को एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में कब घोषित किया?

  1. 1900
  2. 1912
  3. 1950
  4. 1959

सही उत्तर: B) 1912

स्पष्टीकरण: चीन में किंग राजवंश के पतन के बाद, तिब्बत ने 1912 में खुद को स्वतंत्र घोषित किया।

4. चीनी तिब्बत पर अपनी संप्रभुता के प्रमाण के रूप में किस दस्तावेज़ का हवाला देते हैं?

  1. ल्हासा की संधि
  2. सत्रह सूत्री समझौता
  3. शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के पाँच सिद्धांत
  4. चीन-तिब्बत संधि

सही उत्तर: B) सत्रह सूत्री समझौता

स्पष्टीकरण: 1951 में हस्ताक्षरित सत्रह सूत्री समझौते को चीन द्वारा तिब्बत पर अपनी संप्रभुता के प्रमाण के रूप में उद्धृत किया जाता है।

5. किस वर्ष भारत ने तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र को आधिकारिक तौर पर चीन के हिस्से के रूप में मान्यता दी?

  1. 1950
  2. 1959
  3. 1962
  4. 2003

सही उत्तर: D) 2003

स्पष्टीकरण: भारत ने दोनों देशों के बीच एक घोषणा के बाद 2003 में तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र को चीन के हिस्से के रूप में मान्यता दी।

6. किस घटना ने भारत को दलाई लामा को शरण देने के लिए प्रेरित किया?

  1. चीनी गृह युद्ध
  2. कोरियाई युद्ध
  3. असफल तिब्बती विद्रोह
  4. चीन-भारतीय युद्ध

सही उत्तर: C) असफल तिब्बती विद्रोह

स्पष्टीकरण: भारत ने चीनी शासन के खिलाफ तिब्बत में एक असफल विद्रोह के बाद 1959 में दलाई लामा को शरण दी।

7. अधिनियम में बताए अनुसार तिब्बत के संबंध में अमेरिकी नीति का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

  1. तिब्बती स्वतंत्रता का समर्थन करें
  2. तिब्बत में अमेरिकी सैन्य अड्डे स्थापित करें
  3. बिना किसी पूर्व शर्त के बातचीत के माध्यम से विवाद को हल करें
  4. चीन पर आर्थिक प्रतिबंध लगाएँ

सही उत्तर: C) बिना किसी पूर्व शर्त के बातचीत के माध्यम से विवाद को हल करें

स्पष्टीकरण: अधिनियम में कहा गया है कि अमेरिका बिना किसी पूर्व शर्त के बातचीत के माध्यम से तिब्बत-चीन विवाद को हल करने का समर्थन करता है।

8. तिब्बत-चीन विवाद को हल करने के लिए रूपरेखा के रूप में किस अंतर्राष्ट्रीय दस्तावेज़ का हवाला दिया गया है?

  1. मानवाधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा
  2. संयुक्त राष्ट्र चार्टर
  3. जिनेवा सम्मेलन
  4. वर्साय की संधि

सही उत्तर: B) संयुक्त राष्ट्र चार्टर

स्पष्टीकरण: विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने के लिए रूपरेखा के रूप में अधिनियम में संयुक्त राष्ट्र चार्टर का हवाला दिया गया है।

9. तिब्बत सत्रह-सूत्रीय समझौते की वैधता के खिलाफ़ किस तर्क का इस्तेमाल करता है?

  1. इस पर कभी हस्ताक्षर नहीं किए गए थे
  2. इस पर दबाव डाला गया था
  3. इसे जाली बनाया गया था
  4. इसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा अमान्य कर दिया गया था

सही उत्तर: B) इस पर दबाव डाला गया था

स्पष्टीकरण: तिब्बत का तर्क है कि सत्रह सूत्री समझौते पर दबाव में हस्ताक्षर किए गए थे और इसलिए इसमें वैधता का अभाव है।

10. “मध्य मार्ग दृष्टिकोण” के अलावा अमेरिका किसका समर्थन करता है?

  1. तिब्बती स्वतंत्रता
  2. सैन्य हस्तक्षेप
  3. सांस्कृतिक संरक्षण और धार्मिक स्वतंत्रता
  4. चीन पर आर्थिक प्रतिबंध

सही उत्तर: C) सांस्कृतिक संरक्षण और धार्मिक स्वतंत्रता

स्पष्टीकरण: अमेरिका “मध्य मार्ग दृष्टिकोण” के अलावा तिब्बतियों के लिए सांस्कृतिक संरक्षण और धार्मिक स्वतंत्रता का समर्थन करता है।

(Other Source: AIR News, PIB News, DD News, BBC News, Bhaskar News ,Wikipedia)

ये भी पढ़ें: व्यापार एवं निवेश पर भारत-कंबोडिया संयुक्त कार्य समूह की दूसरी बैठक

ये भी पढ़ें:स्विट्जरलैंड में दो दिवसीय यूक्रेन शांति शिखर सम्मेलन “पाथ टू पीस” दस्तावेज़ के साथ समाप्त

ये भी पढ़ें:संक्षेप नोट्स और MCQ परीक्षा के दृष्टि से: 50th G7 Summit 2024, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीसरी शपथ के बाद पहली विदेश यात्रा

 

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
fb-share-icon20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
Advantages of local domestic helper.