टेस्ला का बड़ा एलान: गुजरात में विश्वस्त कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट का निर्माण, जनवरी 2024 में होगा अद्वितीय ऐलान

टेस्ला का बड़ा एलान: इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (EV) के विकास में अपनी उपस्थिति से चर्चा में रहने वाली एलन मस्क की कंपनी टेस्ला इंक ने गुजरात में अपना कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट स्थापित करने का एक बड़ा कदम उठाने का एलान किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस अद्वितीय परियोजना की घोषणा जनवरी 2024 में होने की उम्मीद है, जो वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में हो सकती है। इस समिट में एलन मस्क भी अपने आगामी भारत यात्रा का ऐलान कर सकते हैं।

गुजरात का चयन: टेस्ला की रणनीति

गुजरात को टेस्ला के मैन्युफैक्चरिंग प्लांट के लिए चयन करने के पीछे कई कारण हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, गुजरात की स्ट्रेटेजिक लोकेशन और व्यावासायिक वातावरण ने इसे टेस्ला के लिए सबसे उपयुक्त स्थान बना दिया है। राज्य सरकार ने प्लांट की लोकेशन के रूप में साणंद, धोलेरा, और बेचराजी को ऑप्शन के रूप में प्रस्तुत किया है। गुजरात की यह स्ट्रेटेजिक लोकेशन टेस्ला को अपनी डोमेस्टिक और इंटरनेशनल डिमांड को पूरा करने के लिए एक आदर्श स्थान बना देती है।

ये भी पढ़ें: दीपिका पादुकोण को हुंडई की नई ब्रांड एंबेसडर बनाने पर क्या कहते हैं लोग?

भारत में टेस्ला की योजना: रिपोर्ट्स और उम्मीदें

इस बड़े घोषणा के पीछे विचारशीलता के साथ, भारत में टेस्ला की योजनाओं की चर्चा लंबे समय से चल रही है। इसमें से कई खबरों में उच्चतम सरकारी अधिकारियों ने बताया है कि टेस्ला को भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों को इंपोर्ट करने की और दो साल के भीतर मैन्युफैक्चरिंग प्लांट स्थापित करने की अनुमति दी जाएगी।

रियायतों में बदलाव: टेस्ला को 15-20% की इंपोर्ट ड्यूटी पर राहत

टेस्ला की योजना के हिस्से के रूप में, शीर्ष सरकारी अधिकारी ने पिछले महीने बताया कि टेस्ला को लगभग 15-20% की रियायती इंपोर्ट ड्यूटी पर फुली बिल्ट यानी पूरी तरह से बनी हुई कारों को इंपोर्ट करने की अनुमति दी जा सकती है। यह कदम मौजूदा 100% से काफी कम होगा, जिससे टेस्ला को भारतीय बाजार में प्रवेश करने में मदद मिलेगी।

ये भी पढ़ें: भाषा विवाद: बेंगलुरु में हिंदी-अंग्रेजी साइनबोर्ड्स पर कालिख पोती, मांग – 60% कन्नड़ का नियम तुरंत लागू हो

विस्तारित लक्ष्य: गुजरात प्लांट से टेस्ला का मानवाधिकारिक और अर्थव्यवस्था में योगदान

रिपोर्ट्स के अनुसार, टेस्ला का उद्देश्य है गुजरात में स्थापित किए जाने वाले प्लांट से न केवल भारत में बल्कि विश्वभर में डोमेस्टिक और इंटरनेशनल (री: एक्सपोर्ट) डिमांड को पूरा करना है। इससे स्थानीय बाजार के साथ-साथ विश्व बाजार में भी टेस्ला को मजबूती मिलेगी।

टेस्ला की खासियत: क्यों है इसे स्पेशल?

टेस्ला के इस खास घोषणा के पीछे कई कारण हैं, लेकिन इस पर सवाल उठा जा रहा है कि क्या इसे कोई स्पेशल ट्रीटमेंट क्यों मिल रहा है। गुजरात में पहले से ही कई अन्य ऑटोमोबाइल कंपनियां जैसे कि मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स और MG के मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं। इस पर सवाल उठ रहा है कि क्या टेस्ला को इसे स्पेशल ट्रीटमेंट क्यों दिया जा रहा है और क्या यह अन्य भारतीय ईवी मैन्युफैक्चरर्स को नुकसान पहुंचा सकता है।

एलन मस्क का भारत यात्रा प्लान: आपका टेस्ला में स्वागत है!

बीते दिनों टेस्ला के मालिक एलन मस्क ने भी कहा कि वह अगले साल भारत आने की योजना बना रहे हैं। इसमें उनकी भारत से 15 बिलियन डॉलर, यानी करीब 1.2 लाख करोड़ तक के ऑटो पार्ट्स खरीदने की योजना भी शामिल है। उनकी तरफ से बताया गया है कि टेस्ला भारत में कुछ बैटरियां बनाने का विचार कर रही है, जो कि उनकी कंपनी के लागत को कम करने में मदद कर सकती है।

ये भी पढ़ें: वित्त मंत्रालय द्वारा घोषित सुकन्या समृद्धि योजना की नयी ब्याज दरें

पीयूष गोयल का सरकारी दौरा: टेस्ला की मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी की नजरें

कॉमर्स और इंडस्ट्री मंत्री पीयूष गोयल ने हाल ही में कैलिफोर्निया के टेस्ला मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी का दौरा किया है, जहां उन्होंने टेस्ला के स्थानीय उत्पादन को महसूस करने का एक अद्भुत अवसर पाया। इस महत्वपूर्ण यात्रा के दौरान, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से अपने अनुभवों को साझा किया, जिससे उनकी ऊर्जा और उत्साह से भरी गई।

गोयल ने टेस्ला की मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी का दौरा करते हुए ट्वीट किया, ‘प्रतिभाशाली भारतीय इंजीनियरों और फाइनेंस प्रोफेशनल्स को सीनियर पोजिशन पर काम करते हुए और टेस्ला की रिमार्केबल जर्नी में योगदान करते हुए देखकर बेहद खुशी हुई।’ उन्होंने एलन मस्क को स्वस्थ होने की शीघ्र कामना की और उनकी मैग्नेटिक प्रेजेंसी को याद किया।

इस दौरे का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और टेस्ला के CEO एलन मस्क के बीच इस साल के जून में हुई मुलाकात। मस्क ने मोदी की ऊर्जा और आध्यात्मिकता से जुड़े विषयों पर चर्चा की और इस मुलाकात को ‘शानदार’ बताया। प्रधानमंत्री ने भी ट्वीट करके इस मुलाकात की तस्वीर साझा की और लिखा, “एलन मस्क, आज आपसे शानदार मुलाकात हुई। हमने ऊर्जा और आध्यात्मिकता के विषयों पर चर्चा की।”

पिछले साल टेस्ला और भारत सरकार के बीच नहीं बनी बात, जब कंपनी ने भारत में अपनी मौजूदा और नई गाड़ियों को बेचने का इरादा जताया था। हालांकि, इसमें अवसेनबल गाड़ियों पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी कम करने की मांग ने बाधा डाली थी, जिससे सरकार की औपचारिकता में बदलाव हो सकता है। एलन मस्क ने अपने ट्वीट में इस बारे में स्पष्टता से कहा था कि टेस्ला किसी भी ऐसे स्थान पर मैन्युफैक्चरिंग प्लांट नहीं लगाएगी जहां पहले से ही कारों को बेचने की और सर्विस की अनुमति नहीं है।

इस समय, टेस्ला के इंडिया में अपनी मौजूदगी को मजबूती से बनाए रखने के लिए सरकार और कंपनी के बीच संपर्क जारी है। टेस्ला के स्थानीय उत्पादन की संभावना से निराश होने वाले भारतीय उपभोक्ताओं के लिए यह एक बड़ी खुशखबरी हो सकती है, जो इस उद्यम की ताकत में योगदान कर सकते हैं।

आने वाले समय में होने वाले और विस्तृत अपडेट्स के लिए बने रहें, हम आपको सबसे ताजगी से सूचित करेंगे।

FAQs:

Q1: टेस्ला ने क्या घोषणा की है और कहाँ?

उत्तर 1: टेस्ला ने घोषणा की है कि वह गुजरात, भारत में एक विश्वस्त कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट स्थापित करेगी। इस प्लांट का आद्य एलान जनवरी 2024 में हो सकता है, जिसे वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में किया जा सकता है।

Q2: टेस्ला ने गुजरात का क्यों चयन किया?

उत्तर 2: गुजरात को टेस्ला ने अपने मैन्युफैक्चरिंग प्लांट के लिए चयन करने के लिए उसकी स्ट्रेटेजिक लोकेशन और व्यावासायिक वातावरण के कारण चुना है। गुजरात की स्ट्रेटेजिक लोकेशन ने टेस्ला को अपनी डोमेस्टिक और इंटरनेशनल डिमांड को पूरा करने के लिए एक आदर्श स्थान बना दिया है।

Q3: भारत में टेस्ला की योजनाएं क्या हैं?

उत्तर 3: टेस्ला की योजनाएं भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों को इंपोर्ट करने और दो साल के भीतर मैन्युफैक्चरिंग प्लांट स्थापित करने की हैं, जिसके लिए सरकार ने अनुमति दी है। इसके अलावा, टेस्ला को इंपोर्ट ड्यूटी पर 15-20% की राहत दी जा सकती है।

Q4: टेस्ला के गुजरात प्लांट से क्या उम्मीदें हैं?

उत्तर 4: टेस्ला का उद्देश्य है गुजरात में स्थापित किए जाने वाले प्लांट से न केवल भारत में बल्कि विश्वभर में डोमेस्टिक और इंटरनेशनल डिमांड को पूरा करना, जिससे वह स्थानीय और विश्व बाजार में मजबूत हो सकती है।

Q5: टेस्ला को क्यों स्पेशल ट्रीटमेंट मिल रहा है?

उत्तर 5: सवाल उठ रहा है कि क्या टेस्ला को स्पेशल ट्रीटमेंट क्यों मिल रहा है, जबकि गुजरात में पहले से ही कई अन्य ऑटोमोबाइल कंपनियां हैं। इस बारे में सम्बंधित खबरें और अपडेट्स आने पर हम आपको सूचित करेंगे।

Q6: एलन मस्क का भारत यात्रा प्लान क्या है?

उत्तर 6: एलन मस्क ने बताया है कि उनका आगामी साल भारत आने का प्लान है और उनकी योजना में भारत से करीब 15 बिलियन डॉलर के ऑटो पार्ट्स खरीदने की भी शामिल है। उनकी कंपनी टेस्ला भारत में कुछ बैटरियां बनाने का विचार कर रही है, जो उनकी लागत को कम कर सकती है।

Q7: पीयूष गोयल का सरकारी दौरा क्या है और इसमें कौन-कौन से महत्वपूर्ण हिस्से हैं?

उत्तर 7: कॉमर्स और इंडस्ट्री मंत्री पीयूष गोयल ने हाल ही में कैलिफोर्निया के टेस्ला मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी का दौरा किया है, जहां उन्होंने टेस्ला के स्थानीय उत्पादन को महसूस करने का अवसर पाया। उनके दौरे में उन्होंने टेस्ला के स्थानीय इंजीनियरों और फाइनेंस प्रोफेशनल्स के साथ मुलाकात की और अपने अनुभवों को साझा किया।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर