भारतीय नौसेना के विस्फोटक आयुध रोधी दल ने व्यावसायिक जहाज एम वी केम प्लूटो का निरीक्षण किया

एम वी केम प्लूटो: अरब सागर में हाल ही में हुए आतंकवादी हमले का जवाब देते हुए, भारतीय नौसेना की विस्फोटक आयुध निपटान टीम ने मुंबई बंदरगाह पर वाणिज्यिक जहाज एमवी केम प्लूटो के आगमन पर गहन निरीक्षण किया। ड्रोन द्वारा किए गए हमले में भारत के पश्चिमी तट के पास जहाज को निशाना बनाया गया क्योंकि यह न्यू मैंगलोर बंदरगाह के रास्ते में था। नौसेना, विभिन्न एजेंसियों के सहयोग से, घटना की सक्रिय रूप से जांच कर रही है, जिसमें प्रमुख आतंकवादी संगठनों की संलिप्तता के संकेत सामने आ रहे हैं। एयर (AIR) के ट्वीट के अनुसार

मुम्बई बंदरगाह में भारतीय नौसेना का दमदार प्रदर्शन

भारतीय नौसेना के विस्फोटक आयुध रोधी दल ने कल मुम्बई बंदरगाह पहुंचने पर व्यावसायिक जहाज “एम वी केम प्लूटो “ का गहन निरीक्षण किया। इस निरीक्षण का मुख्य उद्देश्य था जहाज पर हाल ही में हुए आतंकी हमले की जाँच करना, जिसके बारे में सूचनाएं सामने आ रही हैं।

आतंकी हमले की घटना

दो दिन पहले, “एम वी केम प्लूटो” पर अरब सागर में भारत के पश्चिमी तट के नजदीक एक ड्रोन से हमला हुआ था। जहाज न्यू मैंगलोर बंदरगाह की ओर जा रहा था जब यह आतंकी हमले का शिकार हुआ। नौसेना ने तत्पश्चात, विस्फोटक आयुध रोधी दल के साथ मिलकर जहाज का गहन निरीक्षण करने का निर्णय लिया।

ये भी पढ़ें: भारतीय नौसेना ने ‘इंफाल’ का अनावरण किया: उन्नत सुरक्षा के लिए नवीनतम स्टील्थ गाइडेड मिसाइल युद्धपोत

विस्फोटक आयुध रोधी दल की कार्रवाई

नौसेना के प्रवक्ता ने बताया कि विस्फोटक आयुध रोधी दल के विश्लेषण के बाद, विभिन्न एजेंसियों की सहयोग से जांच शुरू की गई है। उन्होंने यह भी बताया कि इस हमले के पीछे के प्रमुख आतंकी संगठनों की जासूसी के संकेत मिल रहे हैं और उन्हें निष्पक्षता से जाँचा जा रहा है।

नौसेना की सक्रियता

इस हमले के बाद, नौसेना ने तत्पश्चात अरब सागर में व्यावसायिक जहाजों पर हमलों की संभावना को ध्यान में रखते हुए लम्बी दूरी तक कार्रवाई करने का निर्णय लिया है। इस कार्रवाई के लिए, P-8I गश्ती विमानों और युद्धपोत आईएनएस  मोरमूगाओ, आईएनएस कोच्चि और आईएनएस  कोलकाता को तैनात किया गया है।

ये भी पढ़ें: वीर बाल दिवस: प्रधानमंत्री ने कहा, देश की आजादी के अमृत काल में नये अध्याय का आरंभ

व्यापक सुरक्षा का इंतजाम

नौसेना की इस सक्रियता का उद्देश्य यह है कि अरब सागर में व्यावसायिक जहाजों को सुरक्षित रूप से चलने में मदद की जा सके, ताकि उन्हें किसी भी आतंकी हमले का सामना ना करना पड़े।

अधिकारिकों का कहना

व्यावसायिक जहाज एम वी केम प्लूटो के गहन निरीक्षण के बाद, नौसेना के अधिकारी और विस्फोटक आयुध रोधी दल के प्रमुखों ने साझा किया कि उन्होंने सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं ताकि इस प्रकार के हमले को रोका जा सके और समुद्र में सभी यातायात को सुरक्षित रूप से जारी रखा जा सके।

भविष्य की चुनौतियाँ

शनिवार को लाइबेरिया के झंडेवाले जहाज एम वी केम प्लूटो पर हुए ड्रोन हमले ने साबित किया कि व्यावसायिक जहाजों को भी आतंकी हमलों का सामना करना पड़ सकता है। इस्रायल हमास युद्ध के बीच लाल सागर और अदन की खाड़ी में ईरान समर्थित हूती व्रिदोहियों की ओर से कथित तौर पर व्यावसायिक जहाजों को निशाना बनाए जाने की चिंता बढ गई है।

सुरक्षा में बढ़ौती

नौसेना ने इस बड़े हादसे के पश्चात समुद्र सुरक्षा में और बढ़ौती करने का आदान-प्रदान किया है और इसमें सफलता प्राप्त की है। भविष्य में ऐसे हमलों को रोकने के लिए नौसेना ने तैनात किए गए गश्ती विमान और युद्धपोतों की ताकत को बढ़ाया है।

इस निरीक्षण और सुरक्षा के प्रयासों से साबित होता है कि भारतीय नौसेना ने आतंकी हमलों के खिलाफ सजगता और सख्ती से कदम उठाए हैं। इस प्रकार की सक्रियता से समुद्री सुरक्षा में सुरक्षिति बढ़ी है और व्यावसायिक जहाजों को भी सुरक्षित रूप से संचालित करने में मदद मिलेगी। भारतीय नौसेना का यह प्रयास समुद्री सुरक्षा में एक नई मील का पत्थर है और यह आतंकी खतरों के खिलाफ दृढ़ निर्णय का प्रतीक है।

ये भी पढ़ें: YouTube Par Subscriber Kaise Badhaye in Hindi| यूट्यूब पर सब्सक्राइबर कैसे बढ़ाएं हिंदी में

FAQs:

प्रश्न: आतंकवादी हमले के बाद भारतीय नौसेना ने कैसे कदम उठाये हैं?

उत्तर: आतंकवादी हमले के बाद, भारतीय नौसेना ने व्यावसायिक जहाज “एम वी केम प्लूटो” के गहन निरीक्षण के लिए विस्फोटक आयुध निपटान टीम के साथ मुंबई बंदरगाह पर पहुंचकर सक्रियता दिखाई। इसके बाद, नौसेना ने अरब सागर में व्यावसायिक जहाजों पर हमलों की संभावना को ध्यान में रखते हुए लम्बी दूरी तक कार्रवाई करने का निर्णय लिया है।

प्रश्न: विस्फोटक आयुध रोधी दल की कार्रवाई के बारे में जानकारी।

उत्तर: भारतीय नौसेना के विस्फोटक आयुध रोधी दल ने “एम वी केम प्लूटो” जैसे व्यावसायिक जहाज के गहन निरीक्षण के लिए सक्रियता दिखाई। इस दल ने विस्फोटक आयुधों के विश्लेषण के बाद विभिन्न एजेंसियों के सहयोग से जाँच शुरू की है और आतंकी संगठनों की संलिप्तता के संकेतों को निष्पक्षता से जाँच रही है।

प्रश्न: कैसे भारतीय नौसेना ने अरब सागर में व्यावसायिक जहाजों को सुरक्षित रूप से चलने की मदद की है?

उत्तर: आतंकी हमले के बाद, भारतीय नौसेना ने अरब सागर में व्यावसायिक जहाजों को सुरक्षित रूप से चलने में मदद करने के लिए लम्बी दूरी तक कार्रवाई करने का निर्णय लिया है। इस कार्रवाई के लिए, विभिन्न गश्ती विमानों और युद्धपोतों को तैनात किया गया है।

प्रश्न: भविष्य में कैसे हमलों का सामना किया जा रहा है?

उत्तर: आतंकी हमलों को रोकने के लिए भविष्य में, भारतीय नौसेना ने समुद्र सुरक्षा में और बढ़ौती करने का आदान-प्रदान किया है। उन्होंने गश्ती विमान और युद्धपोतों की ताकत को बढ़ाया है, जिससे आतंकी खतरों के खिलाफ सकारात्मक प्रतिक्रिया देने में सक्षम हैं।

Please follow and like us:
error700
fb-share-icon5001
Tweet 20
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर
स्पेशिलिस्ट ऑफिसर के 31 पदों पर नाबार्ड ने निकाली भर्ती उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय ने 535 पदों पर भर्ती निकाली टीजीटी और पीजीटी के 1613 पदों पर भर्ती Indian Navy में 254 ऑफिसर पदों पर भर्ती निकली भर्ती NTPC में 130 पदों पर